पूर्व अध्य्क्ष मंजीत सिंह जीके पर FIR दर्ज कराने के आदेश

दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके की मुश्किलें बढ़ गई हैं. भ्रष्टाचार के आरोपों में फंसे मनजीत सिंह के खिलाफ पटियाला हाउस कोर्ट ने एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं. भ्रष्टाचार के आरोपों में फसे मंजीत सिंह ने पटियाला हाउस कोर्ट के एमएम विजेता सिंह रावत के आदेशों को सेशन कोर्ट में चुनौती दी थी, लेकिन कोर्ट ने मंजीत सिंह की अपील को खारिज करते हुए कहा कि उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए पर्याप्त सबूत है, इसलिए हम मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट विजेता सिंह रावत के आदेश को बहाल करते हैं. पिछले साल 13 दिसंबर को पटियाला हाउस कोर्ट ने 24 घंटे के भीतर एफआईआर दर्ज करने के दिल्ली पुलिस को आदेश दिए थे, लेकिन 24 घंटे पूरे होने से पहले ही मंजीत सिंह जीके ने इस आदेश को चुनौती दे दी जिसके बाद एफआईआर दर्ज करने पर कोर्ट ने तब तक के लिए रोक लगा दी थी जब तक की वो अपना फैसला न सुना दे. आज के इस आदेश के बाद दिल्ली पुलिस को 24 घंटे में मंजीत सिंह जीके के खिलाफ एफआईआर दर्ज करनी होगी. पुलिस को जिन धाराओं में ये एफआईआर दर्ज करनी है वो है क्रिमिनल ब्रीच ऑफ ट्रस्ट 409 (10 साल की सज़ा), धोखाधड़ी 420, 421 (7 साल तक की सजा), जाली दस्तावेज दिखाकर पैसे का गबन करना 467 और 468 (उम्रकैद तक की सजा). इस मामले में मंजीत सिंह जीके के अलावा अमरजीत सिंह और हरजीत सिंह सूबेदार को भी सह आरोपी बनाया गया है. मनजीत सिंह जीके 2013 से पिछले साल तक दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष रहे. उन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद पिछले साल दिसंबर में यह कमेटी भंग कर दी गई थी. मनजीत सिंह जीके पर भ्रष्टाचार से जुड़े तीन मामलों में आर्थिक अनियमितता का आरोप है. इसमें पहला मामला करीब ₹51लाख  के गबन का है जो गुरुद्वारे के चेस्ट से निकाले तो गए, लेकिन वापस बैंक में नहीं डाले गए. दूसरा मामला करीब 82,000 धार्मिक किताबों के छपवाने का है जिनके नकली बिल बनाए गए और वह किताबें अब छपी ही नहीं. तीसरा मामला अपनी बेटी और दामाद की कंपनी को गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में रहते हुए कॉन्ट्रैक्ट डलवाने से जुड़ा हुआ है. दिल्ली गुरुद्वारा एक्ट के मुताबिक अध्यक्ष अपने ब्लड रिलेशन में किसी के साथ बिजनेस ट्रांजैक्शन नहीं कर सकता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *