व्यापार

बढ़ते कोविड-19 के मामलों के कारण बढ़ी कोरोना कवच की मांग, जानिए क्‍या है इस पॉलिसी की खासियत

ऐसा माना जा रहा है कि नोवल कोरोना वायरस महामारी अब अपने चरम पर पहुंच चुकी है। यह वायरस दुनिया भर के अलग-अलग हिस्सों के दो करोड़ से अधिक लोगों को अपनी चपेट में ले चुका है। दिन ब दिन स्थिति गंभीर होती जा रही है और आशंका है कि जल्द ही कुल मृतकों की संख्या 10 लाख का आंकड़ा पार कर जाएगी। भारत में भी प्रतिदिन कोरोना वायरस इन्फेक्शन के कई नए मामले दर्ज हो रहे हैं और देश में संक्रमित मरीज़ों का कुल आंकड़ा 20 लाख को पार कर चुका है। इनमें से 40,000 लोग कोविड-19 के कारण अपनी जान भी गंवा चुके हैं। वैसे तो अब भी कोरोना वायरस संक्रमण की वैक्सीन तैयार होने की संभावना काफी दूर लगती है, लेकिन सरकार अपने मौजूदा संसाधनों का अधिकतम इस्तेमाल करते हुए इस बात की पूरी कोशिश कर रही है कि वायरस को रोका जा सके और यह कम से कम लोगों को अपना शिकार बनाए।

एक तरफ जहां सरकार अपना काम कर ही है, वहीं दूसरी तरफ नागरिकों की भी यह जिम्मेदारी बनती है कि इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए सभी एहतियाती कदम उठाएं। सबसे जरूरी उपायों में से एक यह भी होगा कि खुद के लिए एक व्यापक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी की सुरक्षा ज़रूर हासिल करें। अगर आप कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज हेतु अस्पताल में भर्ती होते हैं, तो आपका हेल्थ इंश्योरेंस प्लान इलाज खर्च से आपकी सुरक्षा करेगा और आपके इलाज खर्च का भुगतान करेगा। आप एक पर्याप्त सम इंश्योर्ड राशि की हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी 800-1000 रुपये प्रति माह जैसी मामूली कीमत पर खरीद सकते हैं।

IRDAI द्वारा उचित समय पर उठाया गया कदम

देश में दिन-ब-दिन बढ़ते कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या को देखते हुए, भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने सभी जनरल एवं हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों को यह निर्देश दिया था कि जल्द से जल्द ग्राहकों के लिए एक स्टैंडर्ड इंडिविजुअल कोविड-19 हेल्थ इंश्योरेंस प्लान पेश किया जाए। यह प्रोडक्ट खासतौर पर ऐसे लोगों की ज़रूरतों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है, जो न्यूनतम सम इंश्योर्ड वाली एक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के लिए  800-1000 रुपये प्रति महीने चुकाने में सक्षम हैं। वर्तमान स्थितियों को देखते हुए और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएं हर व्यक्ति की पहुंच में लाने के लिए IRDAI ने खुद से आगे बढ़कर कदम उठाए हैं। IRDAI ने सभी इंश्योरेंस कंपनी को यह निर्देश दिया था कि कोविड-19 के लिए उपयुक्त इलाज प्रदान करने वाला एक स्टैंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस प्रोडक्ट तैयार किया जाए।

यह प्रोडक्ट कोविड-19 के इलाज के लिए एक उचित समाधान चाहने वाले लोगों की ज़रूरतों के लिए बनाया गया है। कोरोना कवच एक इन्डेमनिटी आधारित हेल्थ प्लान है, तो वहीं कोरोना रक्षक एक फिक्स्ड बेनिफिट हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी है। यह दोनों स्टैंडर्ड हेल्थ पॉलिसी एक मूलभूत हेल्थ इंश्योरेंस के लिए लोगों की ज़रूरतों को पूरा करती है और इसका फायदा खासकर युवा लोगों को अधिक होता है।

स्टैंडर्ड हेल्थ पॉलिसी की खरीदारी का प्रचलन

नवीनतम रुझानों के अनुसार कोविड-19 संक्रमण के डर से अधिक से अधिक लोग खुद के लिए एक स्टैंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस पॉलसी खरीदने पर जोर देने लगे हैं। आश्चर्य तो इस बात का है कि जिन लोगों के पास पहले से रेगुलर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी है, वो भी गारंटीशुदा कवरेज के लिए ऐसे प्लान खरीद रहे हैं। भारत के सबसे बड़े इंश्योरेंस मार्केटप्लेस पॉलिसीबाज़ार ने 10 जुलाई को इन पॉलिसियों के लॉन्च होने के बाद से लेकर 5 अगस्त के बीच अपने प्लेटफॉर्म पर रोज़ाना 1000 से अधिक पॉलिसी बेचने का दावा किया है, जिनमें इंडिविजुअल और फैमिली फ्लोटर जैसे दोनों प्लान्स शामिल हैं। पॉलिसीबाज़ार ने भी यह देखा है कि 9.5 महीनों वाली कोरोना केंद्रित पॉलिसी को लोगों ने अधिक पसंद किया और पॉलिसी खरीदने वाले 70 प्रतिशत ग्राहकों ने यह अवधि चुनी। इसी प्रकार से पॉलिसी का सर्वाधिक पसंदीदा सम इंश्योर्ड 5 लाख रुपये रहा, जो कि पॉलिसी के तहत अधिकतम सीमा है।

कोरोना कवच और कोरोना रक्षक में से 85 प्रतिशत ग्राहकों ने कवच खरीदा और 15 प्रतिशत लोगों ने कोरोना रक्षक से खुद को कवर करने का फैसला किया। कंपनी के अनुसार श्रेणी 2 एवं 3 के शहरों से इस पॉलिसी को खरीदने वाले लोगों की संख्या बढ़ रही है।

यह भी देखने मिला है कि छोटी अवधि के कोविड-19 केंद्रित कवर की भी अच्छी खासी मांग है और खासकर पहली बार हेल्थ इंश्योरेंस खरीदने वाले लोग इसे पसंद कर रहे हैं। नोवल कोरोनावायरस से जुड़ी अनिश्चितता के कारण अधिक से अधिक लोग अपने और अपने परिवार के लिए हेल्थ कवर खरीदना चाह रहे हैं क्योंकि अब हेल्थ इंश्योरेंस की कीमतें बेहद किफायती हो चुकी हैं।

माना जा रहा है कि इन दोनों प्रोडक्ट्स की भारी मात्रा में बिक्री हो सकती है, लेकिन इनके बारे में जागरूकता फिलहाल काफी कम है। इसके लिए इंश्योरेंस इंडस्ट्री को डिस्ट्रिब्यूशन और मार्केटिंग गतिविधियों में काफी अधिक निवेश करने की ज़रूरत है ताकि इन पॉलिसियों में मौजूद संभावनाओं का पूरा फायदा उठाया जा सके। हालांकि, लोगों को हमेशा यह सलाह दी जाती है कि लंबी अवधि के लिए एक व्यापक हेल्थ इंश्योरेंस कवर ही खरीदें क्योंकि यह कोविड-19 जैसी महामारियों के साथ-साथ सभी संभावित बीमारियों के लिए पर्याप्त कवरेज प्रदान करता है। अब तो 1 करोड़ रुपए सम इंश्योर्ड के साथ भी हेल्थ प्लान उपलब्ध हैं, जो एक 30 वर्षीय व्यक्ति के लिए लगभग 10,000-12,000 रुपये कीमत पर मिल जाएंगे।

कोरोना आधारित प्लान की कीमतें

आप टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीदते वक्त एक एड-ऑन के रूप में कोरोना कवच और कोरोना रक्षक प्लान ले सकते हैं। यह प्लान 3.5 महीने, 6.5 महीने और 9.5 महीने की अवधि के साथ उपलब्ध है, जिसका सम इंश्योर्ड 50,000 रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक 50,000 के गुणांको में हो सकता है। एक 32 वर्षीय व्यक्ति के लिए 9.5 महीने अवधि और  5 लाख रुपये सम इंश्योर्ड वाली कोरोना कवच पॉलिसी की कीमत लगभग 1,000-1,500 रुपये के बीच होगी, जो हर इंश्योरेंस कंपनी के पास अलग-अलग हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *