लेह के चुनाव अधिकारी की GOC को चिट्ठी, सेना के कुछ अधिकारी जवानों से पूछ रहे हैं कि वे किसे वोट देंगे

जम्मू-कश्मीर में एक चौंकाने वाला मामला आया है. जम्मू-कश्मीर के लेह में चुनाव अधिकारियों ने 14 कॉर्प्स के जीओसी (General Officer Commanding) को चिट्ठी लिखकर कहा है कि सेना के कुछ अधिकारी जवानों से पूछ रहे हैं कि वे किसे वोट देना चाहते हैं.

नई दिल्ली, स्टार सवेरा ।

प्रेस क्लब लेह ने आरोप लगाया था कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने उसके सदस्यों को ‘पैसों से भरे लिफाफों’ की पेशकश कर रिश्वत देने की कोशिश की. लेकिन भाजपा ने इससे इंकार करते हुए कहा कि आरोप ‘राजनीति से प्रेरित’ हैं. हालांकि, एक वीडियो सामने आया, जिससे सवाल खड़े हो गए हैं. वीडियो में दिख रहा है कि पिछले सप्ताह हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों को लिफापे दिए जा रहे हैं. सीसीटीवी में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना पत्रकारों के सात दिख रहे हैं और पार्टी के विधायक विक्रम रंधावा पत्रकारों को लिफाफे थमाते हुए दिख रहे हैं. एनडीटीवी इस वीडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं कर सकता.

प्रेस क्लब के सदस्यों ने स्थानीय चुनाव अधिकारी को खत लिखकर आरोप लगाया था कि भाजपा प्रदेश प्रभारी रवींद्र रैना ने पिछले सप्ताह हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों को रिश्वत देने की कोशिश की. लेकिन भाजपा ने इन आरोपों को खंडन करते हुए कहा कि उन्होंने रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण की क्षेत्र में होने वाली रैली के लिए पत्रकारों को आमंत्रण पत्र दिया था. पार्टी ने कहा कि वह पत्रकारों पर मानहानि का मुकदमा दायर करेगी.

कि सेना के कुछ अधिकारी जवानों से पूछ रहे हैं कि वे किसे वोट देना चाहते हैं.
जम्मू-कश्मीर में एक चौंकाने वाला मामला आया है. जम्मू-कश्मीर के लेह में चुनाव अधिकारियों ने 14 कॉर्प्स के जीओसी (General Officer Commanding) को चिट्ठी लिखकर कहा है कि सेना के कुछ अधिकारी जवानों से पूछ रहे हैं कि वे किसे वोट देना चाहते हैं. मामला सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है. हालांकि सेना ने आरोप को झूठा बताया है. सेना से जुड़े सूत्रों का कहना है कि प्राथमिक छानबीन में आरोप झूठा पाया गया है और ऐसा लग रहा है कि सेना की छवि धूमिल करने के लिए ये आरोप लगाया गया. हालांकि अभी पूरे मामले की गहराई से छानबीन चल रही है. आपको बता दें कि पिछले दिनों लेह में ही एक और चौंकाने वाला मामला सामने आया था

प्रेस क्लब लेह ने आरोप लगाया था कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने उसके सदस्यों को ‘पैसों से भरे लिफाफों’ की पेशकश कर रिश्वत देने की कोशिश की. लेकिन भाजपा ने इससे इंकार करते हुए कहा कि आरोप ‘राजनीति से प्रेरित’ हैं. हालांकि, एक वीडियो सामने आया, जिससे सवाल खड़े हो गए हैं. वीडियो में दिख रहा है कि पिछले सप्ताह हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों को लिफापे दिए जा रहे हैं. सीसीटीवी में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना पत्रकारों के सात दिख रहे हैं और पार्टी के विधायक विक्रम रंधावा पत्रकारों को लिफाफे थमाते हुए दिख रहे हैं. एनडीटीवी इस वीडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं कर सकता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *