नवजोत सिद्धू पर असमंजस में पंजाब कांग्रेस, राहुल गांधी से मिलकर घर आए गुरु

पंजाब कांग्रेस में नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर असमंजस की स्थिति है। नवजोत सिंह सिद्धू की राहुल गांधी से मुलाकात के बाद कैप्‍टन से उनके विवाद के मद्देनजर स्थिति उलझ गई है।

नई दिल्ली, स्टार सवेरा ।

कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने मंत्रियों के विभागों में फेरबदल के बाद कार्यभार तो नहीं संभाला है, ले‍किन वह कांग्रेस की टॉप लीडरशिप से मिलने नई दिल्‍ली पहुंच गए। सिद्धू कांग्रेस के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मिले व अपनी बात रखी। उन्‍होंने स्‍थानीय निकाय विभाग में अपने कामकाज के हिसाब के संग-संग मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के साथ विवाद पर अपना पक्ष भी रखा। बताया जाता है कि सिद्धू को राहुल और प्रियंका से कोई ठोस आश्‍वासन नहीं मिला। इसके बाद सिद्धू पूरे मामले में खाली हाथ लौट आए। पूरी स्थिति के कारण पंजाब कांग्रेस असमंजस और संशय की स्थिति में दिख रही है।

साेमवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने नए ऊर्जा विभाग का चार्ज नहीं संभाला। राजस्व मंत्री गुरप्रीत कांगड़ व रजिया सुल्ताना ने अपने विभाग की जिम्मेदारी संभाल ली। सिद्धू दिल्ली में राहुल गांधी व प्रियंका गांधी से मुलाकात कर लौट आए हैं। सिद्धू की यह मुलाकात भी तब हुई, जब राहुल पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात नहीं कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने अपने अधिकार का प्रयोग करते हुए 13 मंत्रियों के विभाग में फेरबदल किया है। इससे कुछ मंत्री काफी खफा हैं, लेकिन सबसे अधिक खफा नवजोत सिंह सिद्धू हैं।

सिद्धू की राहुल से मुलाकात ने एक नई राजनीतिक चर्चा छेड़ दी है। लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद राहुल पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से नहीं मिल रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ उन्होंने सिद्धू से मुलाकात की। क्या राहुल यह संदेश देना चाहते थे कि वह सिद्धू के साथ खड़े हैं या सिद्धू यह संकेत दे रहे है कि पार्टी हाईकमान के पास उनकी कितनी पकड़ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *