बड़ी खबर राजनीति

श्रमिकों के लिए कांग्रेस की बसों की सूची पर नया बखेड़ा, लिस्ट में बाइक और ऑटो के नंबर का दावा

प्रवासी श्रमिकों की मदद के लिए भेजी जाने वाली बसों की सूची में दिए अधिकतर नंबर फर्जी होने के दावे किये जा रहे हैं। ऐसे कई नंबर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं।

लखनऊ, उत्तर प्रदेश की योगी सरकार और कांग्रेस के बीच प्रवासी श्रमिकों और कामगारों के मुद्दे को लेकर खींचतान और तेज हो गई है। अभी दोनों और से पत्रों के आदान-प्रदान का सिलसिला चल ही रहा था कि इस बीच कांग्रेस की तरफ से भेजी गई बसों की लिस्ट पर नया विवाद शुरू हो गया है। ऐसा दावा किया जा रहा है कि प्रवासी श्रमिकों और कामगारों के लिए 1000 बसों की लिस्ट में कई नंबर मोटरसाइकिल, थ्री व्हीलर और कार के निकल रहे हैं।

सोशल मीडिया पर वायरल लिस्ट में शामिल आरजे 14 टीडी 1446 को ‘शेवरले बीट’ कार का बताया जा रहा है। ऐसे ही एक नंबर यूपी 83 टी 1106 के मालिक का नाम इरशाद और वाहन थ्री व्हीलर बता रहा है। यही नहीं एक और नंबर यूपी 85 टी 65 76 प्लेटिना बाइक मालिक जितेंद्र कुमार बताया जा रहा है। सोशल मीडिया में कांग्रेस की ओर से भेजी गई बसों की यह लिस्ट वायरल हो गई है।

उत्तर प्रदेश सरकार के लघु उद्योग मंत्री व प्रदेश सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने प्रियंका की भेजी लिस्ट सही नहीं होने की बात कही है। उन्होंने कहा कि इसमें कई वाहनों के नंबर और डिटेल गलत है और बसों के बजाय और वाहनों के नंबर हैं।सिद्धार्थनाथ सिंह ने लखनऊ में इस बारे में जानकारी देते हुए प्राथमिक आधार पर उपलब्ध वाहनों की सूची के बारे में बताते हुए कहा कि कांग्रेस इस मौके पर भी अपनी नीयत से बाज नहीं आई और दी गई लिस्ट में कार, ट्रैक्टर, एंबुलेंस और स्कूटर जैसे वाहनों के नंबर हैं।

दरअसल, उत्तर प्रदेश सरकार और कांग्रेस के बीच प्रवासियों के लिए बस के प्रबंध को लेकर खींचतान मची है।एक हजार बसों को चलाने की अनुमति देने के साथ यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह ने प्रियंका गांधी वाड्रा को पत्र भेज लखनऊ में बसें हैंडओवर करने की बात कही। इसे अनुचित बताते हुए अब प्रियंका के निजी सचिव ने अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखा है।

इस पर सरकार ने ये बसें नोएडा और गाजियाबाद में दोपहर तक उपलब्ध कराने को पत्र लिख दिया है। इस बीच सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि प्रियंका वाड्रा के दफ्तर की तरफ से दी गई सूची में कुछ नंबर मोटरसाइकिल, कार और तिपहिया वाहनों के हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा है कि यह तो महाघोटाला है। प्रियंका वाड्रा की बसों की सूची में ज्यादातर नंबर आटो रिक्शा, कार और एंबुलेंस के निकले हैं। कोरोना आपदा के वक्त जब पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ मेहनत से लोगों की मदद में जुटे हैं तब प्रियंका गांधी वाड्रा और उनके साथी लोगों गुमराह करने और अराजकता फैलाने में जुटे हैं।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि कांग्रेस प्रवासी मजदूरों की सेवा करना चाहती है, लेकिन सरकार अड़ंगा डाल रही है। उन्होंने कहा कि बसों के सूची में कोई नंबर गलत नहीं है। सरकार चाहे तो नोडल अधिकारी से जांच करा ले। मथुरा में मंगलवार को कांग्रेस अध्यक्ष ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हमने सरकार से एक हजार बसों की अनुमति मांगी थी, सरकार ने अनुमति देने में दो दिन की देरी की। सरकार ने अब कहा कि लखनऊ लाकर बस खड़ी करिए।

सरकार रात में अनुमति देती है और सुबह नौ बजे बस मांगती है। उन्होंने कहा कि सभी बसों के नंबर भी उपलब्ध कराए गए हैं। कोई भी नंबर गलत नहीं है। सरकार नोडल अफसर नियुक्त कर बसों की जांच कर सकती है। हम इस संकट के समय में सरकार का सहयोग करना चाहते हैं, लेकिन सरकार पीछे भाग रही है। सरकार आंकड़ों में फंसाकर मजदूरों का नुकसान करना चाहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *