बड़ी खबर लाइफस्टाइल स्वास्थ्य

Coronavirus Patients: चीन में कोरोना वायरस के मरीज़ों को पिलाया जा रहा है ये अनोखा सूप!

Coronavirus Patients चलिए आज जानते हैं कि कोरोना वायरस के मरीज़ों को सॉफ्टशेल कछुए का ही सूप क्यों पिलाया जा रहा है और ये कितना सुरक्षित होता है।

नई दिल्ली, Coronavirus Patients: कोरोना वायरस यानी nCoV के संक्रमण से अब तक हज़ार से अधिक लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 45,201 लोग इससे संक्रमित हैं। वहीं, करीब 5000 लोग इस संक्रमण की चपेट में आने के बाद अब स्वस्थ हो चुके हैं। हाल की रिपोर्ट्स में बताया गया है कि चीन में कोरोना वायरस के मरीज़ों को डिनर में कछुए का सूप पिलाया जा रहा है।

तो चलिए आज जानते हैं कि सॉफ्टशेल कछुए का ही सूप क्यों मरीज़ों को पिलाया जा रहा है और ये कितना सुरक्षित होता है।

कोरोना वायरस का संबंध एक ऐसी बीमारी से है, जिससे व्यक्ति को सर्दी, बुखार, सुखी खांसी, और सांस लेने की समस्या होती है। इसकी शुरुआत चीन के शहर वुहान से हुई थी। ये बीमारी एक इंसान से दूसरे में फैलती है। फ़िलहाल इस वायरस का ईलाज या टीका बाज़ार में उपलब्ध नहीं है, और न ही बना है।

मरीज़ों को क्यों पिलाया जा रहा है सॉफ्टशेल कछुए का सूप
पारंपरिक चीनी चिकित्सा के अनुसार, सॉफ्टशेल कछुए अत्यधिक पौष्टिक होते हैं और प्रोटीन से भरपूर भी होते हैं। यहीं वजह है कि बीमार लोग अगर इसे पीएं तो उन्हें जल्दी ठीक होने में मदद मिल सकती है। इसके लिए जंगली कछुओं या फिर खेतों में पाले जाने वाले कछुओं का सूप बनाकर, मरीज़ों को दिन में दो बार पिलाया जाता है।

चीनी शहर वुहान के मेकशिफ्ट अस्पतालों में से एक में सोफ्टशेल कछुए का मांस परोसा गया था, जहां कोरोना वायरस पहली बार फैलना शुरू हुआ था।

अभी तक इस जानलेवा बीमारी का कोई इलाज सामने नहीं आया है, लेकिन इससे पीड़ित लोगों को इस बीमारी से लड़ने के लिए ताकत और पौष्टिक आहार की सख्त ज़रूरत होती है। इसलिए कोई आश्चर्य की बात नहीं है अगर इन मरीज़ों की देखभाल कर रहे लोग इनके शीघ्र स्वस्थ होने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *