खेल

डायना एडुल्जी ने द्रविड़ से कहा- पार्ट टाइम NCA कोचों से नहीं होगा महिला क्रिकेट का भला

भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने 2018 में टी-20 वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल तक का सफर किया. नीली किट वाली ये टीम अपने प्रदर्शन को सुधारना चाहती है.

भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने 2018 में टी-20 वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल तक का सफर किया. नीली किट वाली ये टीम अपने प्रदर्शन को सुधारना चाहती है. इसलिए वो व्यवस्थित और समर्पित सपोर्ट स्टाफ चाहती है. ये मुद्दा बीसीसीआई कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर्स (सीओए) की बैठक में पेचीदा रहा. अगला टी-20 विश्व कप अगले साल फरवरी में ऑस्ट्रेलिया में होने वाला है. सूत्रों के मुताबिक महिला टीम के सपोर्ट स्टाफ को लेकर स्टेकहोल्डर्स में अलग-अलग राय सामने आई हैं. महिला क्रिकेट टीम के हेड कोच डब्ल्यूवी रमण की मदद के लिए स्थायी बोलिंग कोच और फील्डिंग कोच की उपयोगिता को लेकर अलग मत उभरे हैं.

वर्तमान में पूर्व लेग स्पिनर और राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के एक कोच नरेंद्र हिरवानी भारतीय महिला टीम के लिए पार्ट टाइम स्पिन सलाहकार का रोल निभा रहे हैं. दक्षिण अफ्रीका के साथ चल रही घरेलू सीरीज में हिरवानी इसी भूमिका में हैं. भारतीय टीम में पूनम यादव, एकता बिष्ट, दीप्ति शर्मा समेत कई स्पिनर हैं.

‘महिला टीम के लिए भी सपोर्ट स्टाफ की फिक्स्ड नियुक्तियां हों’

बैठक में सीओए सदस्य और पूर्व कप्तान डायना एडुल्जी ने महिला टीम के साथ पार्टटाइम असाइनमेंट के लिए एनसीए कोचों को लाने के विचार पर असहमति जताई. सूत्र ने इंडिया टुडे को बताया, डायना एडुल्जी ने बैठक में एनसीए डायरेक्टर राहुल द्रविड़ और जनरल मैनेजर सबा करीम से कहा कि पुरुष क्रिकेट की तरह ही महिला टीम के लिए भी सपोर्ट स्टाफ की फिक्स्ड नियुक्तियां होनी चाहिए.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टीम की सहायता के लिए जिस तरह से हिरवानी को डेप्यूट किया गया, उसी तरह से भारत के U19 और ए टीमों के कोच पारस महाम्ब्रे को फास्ट बोलिंग कोच के तौर पर महिला टीम के साथ भेजने पर भी विचार किया जा रहा है. अगले महीने वेस्टइंडीज में तीन वनडे और पांच टी-20 मैचों की सीरीज होनी है. सूत्र ने बताया, ‘राहुल द्रविड़ ने एडुल्जी से कहा कि वे एनसीए कोचों को केवल महिलाओं की क्रिकेट को लाभ पहुंचाने के लिए उपलब्ध करा रहे थे.’

एडुल्जी ने वेस्टइंडीज में पार्ट टाइम फील्डिंग कोच को बिजू जॉर्ज की जगह भेजे जाने पर भी अलग राय दिखाई. बीजू जॉर्ज का कॉन्ट्रेक्ट इस महीने खत्म हो रहा है. एडुल्जी ने ये भी सवाला उठाया कि महिला टीम के लिए फुल टाइम विश्लेषक की नियुक्ति विज्ञापन जारी होने के बाद भी क्यों नहीं हो सकी.

बैठक में फुल टाइम नियुक्तियों के लिए तर्क रखे गए

सूत्र ने बताया, ‘सीओए सदस्य एडुल्जी ने कैप्टन और कोच के साथ बात करने के बाद फुल टाइम नियुक्तियों के लिए अपने तर्क रखे. उन्होंने इन नियुक्तियों के लिए विज्ञापन और इंटरव्यू की प्रक्रिया पर भी जोर दिया.’

बताया गया है कि सीओए चेयरमैन विनोद राय ने प्रक्रिया को शुरू करने और एक हफ्ते के समय में ही नियुक्तियां की जाएंगी. फुल टाइम सपोर्ट स्टाफ की नियुक्तियों को लेकर अलग राय आने के बाद महिला टीम की कुछ वरिष्ठ खिलाड़ियों की ओर से स्पोर्ट्स साइकोलॉजिस्ट की नियुक्ति की मांग पूरी होना अभी दूर की कौड़ी ही लगती है. ये मुद्दा बैठक में विचार तक के लिए सामने नहीं आया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *