मुख्य समाचार राष्ट्रीय

अब आपको बताना होगा रेल यात्रा के बाद कहां रुकेंगे, वरना नहीं मिलेगा रेल टिकट

रेलवे ने स्पेशल ट्रेन सेवाएं शुरू करने के साथ-साथ निगरानी के लिए भी कुछ कदम उठाए हैं। सभी यात्रियों को अपना ब्‍योरा ऑनलाइन टिकट बुक करते समय देना होगा।

नई दिल्ली। विदेश यात्रा की तर्ज पर अब ट्रेनों में यात्रा करने पर भी विस्तृत ब्यौरा देना होगा। इसके लिए भारतीय रेलवे की ओर से जारी फार्म में पूरा ब्यौरा देना होगा। खासतौर पर इसमें यात्री को अपने गंतव्य स्थल पर ठहरने की जगह का पूरा पता लिखना होगा। यह फैसला भविष्य में भी लागू रहेगा। अभी तक यात्रा के लिए ट्रेन टिकट लेते समय फार्म पर केवल अपना पता देना होता था। लेकिन अब दोनों जानकारी देनी होगी। इससे रेलवे को संबंधित व्यक्ति का पता करना आसान रहेगा।

कोविड-19 के समय इस तरह की चुनौतियां पेश आई। कोरोना संक्रमित यात्रियों का पता लगाने और उसके साथ यात्रा करने वालों की पहचान करने में कठिनाई हुई। स्टेशनों पर पहुंचने वाले यात्रियों को लाकडाउन की वजह से बंद पड़ी आवाजाही से टैक्सी व बसों की सुविधा नहीं मिल रही है। रेलवे इस बाबत पहले ही सूचना लेकर संबंधित राज्यों को इसकी जानकारी दे सकता है।

लॉकडाउन में फंसे लोगों को निकालने के लिए चालू की गई स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों का पहला चरण 22 मई को पूरा हो जाएगा, जिनके विस्तार का फैसला अगले दो तीन दिनों में कर दिया जाएगा। दूसरे चरण में स्पेशल एसी ट्रेनों की संख्या में इजाफा हो सकता है। पिछले तीन दिनों के स्पेशल राजधानी ट्रेनों के संचालन की समीक्षा में मिली खामियों को दुरुस्त करने की कोशिश की जा रही है।

इन ट्रेनों में टिकट कैंसिल कराने वालों की संख्या अधिक होने की वजह से भारतीय रेलवे को अपनी टिकट कैंसिलेशन पुरानी नीति को ही लागू करना पड़ा है। इसके साथ ही बहुप्रतीक्षित टिकटों की प्रतीक्षा सूची की सीमा निर्धारित कर दी गई है, जो ट्रेनों के नियमित संचालन के बाद भी लागू रहेगी। वेटिंग टिकट वाले अब ट्रेनों में प्रवेश नहीं पा सकते है।

स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों में 22 मई तक कोई टिकट उपलब्ध नहीं है। रेलवे के मुताबिक 14 मई तक कुल 2.34 यात्रियों ने रेलवे का टिकट कटा लिया है। इसके लिए कुल 1.25 लाख पीएनआर जारी किये गये हैं। रेलवे को इन टिकटों को बेचने से कुल 45.30 करोड़ रुपये की आमदनी हुई है। 14 मई तक कुल 25737 यात्रियों ने इन ट्रेनों से यात्रा पूरी की है। गुरुवार को कुल 18 स्पेशल राजधानी ट्रेनें अपने गंतव्य के लिए रवाना हुईं।

रेलवे ने मंगलवार से 15 जोड़ी स्पेशल राजधानी स्‍पेशल ट्रेन शुरू की हैं। शुरुआत में देश के चुनिंदा शहरों के लिए 15 जोड़ी ट्रेनें चलाई जा रही हैं।

यह ट्रेनें नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मडगांव, मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मू तवी को जाएंगी और आएंगी।

रेलवे ने 30 जून तक के सभी टिकटों को कैंसिल कर दिया है, हालांकि इसका श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों पर असर नहीं पड़ेगा और वो जारी रहेंगी। साथ ही कैंसिल टिकटों का पैसा रिफंड कर दिया गया है।

रेलवे ने ट्रेन में सफर के लिए यात्रियों की संख्या को भी फिक्सड कर दिया है। रेलवे बोर्ड के आदेश के मुताबिक इंडिय रेलवे केटरिंग एंड टूरजिम कॉर्पोरेशन की आधिकारिक वेबसाइट पर ही टिकट की बुकिंग की जा सकेगी। एसी 3 टियर में 100 वेटिंग लिस्ट और एसी 2 टियर में 50 टिकटें वेटिंग लिस्ट कोटे में बुक हो सकेंगी। इसके अलावा बोर्ड ने 200 वेटिंग टिकटें स्लीपर क्लास के लिए निर्धारित की हैं।

रेलवे ने कहा है कि थर्मल स्क्रीनिंग के दौरान कंफर्म टिकट पाने वाले यात्री में अगर किसी तरह के लक्षण पाए जाते हैं तो उसे सफर की इजाजत नहीं होगी। इसके साथ ही उसे टिकट का पैसा रिफंड कर दिया जाएगा।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने गुरुवार को कहा कि हम अलग-अलग राज्यो में फंसे हुए यात्रियों को सफर के दौरान कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रखना चाहते हैं। इसके लिए हमने पहले ही 700 ट्रेनों का संचालन कर दिया है। हमें उम्मीद है कि राज्य भी हमारा पूरा साथ देंगे।

आईआरसीटीसी ने यात्रा के दौरान यात्रियों को कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सतर्क किया है। ट्वीट में कहा गया है कि देश-दुनिया में कोरोना संक्रमण के खिलाफ निरंतर जंग जारी है। आईआरसीटीसी आप सभी से निवेदन करता है कि रेल यात्रा के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सावधानी बरतें। नियमित हाथ धोएं, मास्क पहनें एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। साथ ही आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *