दिल्ली

MCD: 200 स्कूलों की छतों पर लगेंगे सोलर पैनल, बची बिजली बेचेंगे

स्थाई समिति अध्यक्ष जयप्रकाश का कहना है कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के 200 स्कूलों में सोलर पैनल लगाएंगे और उससे बिजली का उत्पादन होगा. स्थाई समिति अध्यक्ष जयप्रकाश ने कहा कि हर स्कूल का करीब ₹6000 हर महीने का बिल आता है इन पैनलों के जरिए उसकी बचत होगी

अक्सर एमसीडी फंड की कमी से जूझती हुई दिखाई देती है ऐसे में उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने खुद को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक कदम आगे बढ़ाया है. अब उत्तरी दिल्ली नगर निगम अपने 200 स्कूलों में छतों पर सोलर पैनल लगाने जा रहा है जिसके जरिए सौर ऊर्जा से बिजली पैदा होगी और उस बिजली का इस्तेमाल तमाम स्कूलों में किया जाएगा.

उत्तरी दिल्ली नगर निगम की स्थाई समिति अध्यक्ष जयप्रकाश ने ‘आजतक’ से बातचीत में कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के 200 स्कूलों में सोलर पैनल लगाएंगे और उससे बिजली का उत्पादन होगा. स्थाई समिति अध्यक्ष जयप्रकाश ने कहा कि हर स्कूल का करीब ₹6000 हर महीने का बिल आता है इन पैनलों के जरिए उसकी बचत होगी, इससे तकरीबन हर महीने का हमारा 24 लाख रुपया बचेगा.

अध्यक्ष जयप्रकाश का कहना है कि स्कूल के लिए जरूरी बिजली के इस्तेमाल के बाद बची हुई बिजली प्रति यूनिट 5.50 रुपये के हिसाब से पावर ग्रिड को बेच दी जाएगी. जयप्रकाश ने दावा किया कि इससे हमारे खर्चे भी बचेंगे और आमदनी भी बढ़ेगी. साथ ही स्थाई समिति अध्यक्ष जयप्रकाश ने ‘आजतक’ से बातचीत में कहा कि भारत सरकार से हमें 7 करोड़ रुपए अब तक मिल चुके हैं.

उन्होंने बताया कि मोदी जी की यह सोच है कि ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोतों का इस्तेमाल किया जाए इसलिए हम उनके सपने को पूरा कर रहे हैं. भारत सरकार की सहायता से हमारी योजना फलीभूत होगी जब 200 स्कूलों में यह सोलर पैनल लग जाएंगे तो हमारा खर्चा बचेगा.

आजतक ने सवाल किया कि कहीं यह योजना अफसरों की फाइलों में दबकर तो नहीं रह जाएगी. इस पर स्थाई समिति अध्यक्ष ने दावा किया कि जब से देश में मोदी जी की सरकार आई है तब से अफसरशाही नहीं लोकशाही चल रही है. ऐसे में हम गुड गवर्नेंस देने के लिए इस काम को करके दिखाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *