क्राइम

पुलिस पर फायरिंग करने वाले उपद्रवियों पर 20 हजार का इनाम घोषित

मेरठ में नागरिकता कानून के विरोध में 20 दिसंबर को ही हापुड़ रोड और लिसाड़ीगेट पर

उपद्रवियों ने लगातार 4 घंटे तक जमकर हिंसक वारदातों को अंजाम दिया था. पुलिस प्रशासन पर पथराव के साथ-साथ इस दौरान गोलियां भी चलाई गई थीं.

मेरठ में नागिरकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन में जमकर हिंसा हुई थी. मेरठ के ही लिसाड़ीगेट इलाके में 20 दिसंबर को हिंसक प्रदर्शन हुए थे. प्रदर्शन के दौरान गोली चलाने वाले 3 उपद्रवियों के खिलाफ पुलिस ने 20-20 हजार का इनाम घोषित किया है. पुलिस ने तीनों उपद्रवियों की तस्वीरें भी जारी की थीं.

पुलिस ने तीनों उपद्रवियों को गिरफ्तार करवाने पर 20-20 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है. उपद्रवियों ने तमंचे से कई राउंड पुलिस पर फायरिंग कर रहे थे. पुलिस ने इन तस्वीरों को जारी किया था. अब मेरठ के एसएसपी अजय साहनी ने 20-20 हजार का इनाम घोषित किया है.

नागरिकता कानून के विरोध में 20 दिसंबर को ही हापुड़ रोड और लिसाड़ीगेट पर उपद्रवियों ने लगातार 4 घंटे तक जमकर हिंसक वारदातों को अंजाम दिया था. पुलिस प्रशासन पर पथराव के साथ-साथ इस दौरान गोलियां भी चलाई गई थीं. घटना के 5 दिन बाद पुलिस के हाथ सीसीटीवी फुटेज लगा है. सीसीटीवी कैमरे में लिसाड़ी गेट पर उपद्रवी गोली चलाते हुए दिख रहे हैं.

उपद्रवियों की संपत्ति की होगी कुर्की

एसएसपी अजय साहनी का कहना है कि पुलिस की ओर से जारी की गई तस्वीरों में 50 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों की पहचान हो चुकी है. 3 उपद्रवी पुलिस पर सीधे गोली चलाते हुए दिख रहे हैं, जिनका वीडियो सीसीटीवी में कैद हो गया है. 3 व्यक्तियों पर 20-20 हजार का इनाम घोषित किया गया है. साथ ही जो लोग फरार हैं, उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट न्यायालय से जारी कराए जाएंगे और कुर्की कार्रवाई की जा रही है.

हिंसा के 24 मामले दर्ज

पुलिस ने कहा है कि जिन लोगों के घरवाले उन्हें बचाने और छिपाने की कोशिश कर रहे हैं, उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी. इस मामले में एक एफआईआर देशद्रोह में दर्ज की गई है . अब तक इस मामले में 24 मुकदमे दर्ज किए गए हैं, जिनकी विवेचना की जा रही है.

जिन लोगों की गिरफ्तारी हुई है, उनमें पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के 4 सदस्यों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है. अब पर सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक ये कार्यकर्ता हिंसा भड़काने और पर्चे बांटने में शामिल रहे हैं. पुलिस ने इस मामले में नामजद एफआईआर दर्ज कर ली है. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *