करोड़ों का पीतल चुराने वाला गैंग गिरफ्तार, करोड़ों में कैश बरामद

कम्पनी में करोड़ों की पीतल धातु चुराने वाले गैंग को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. बताया जा रहा है कि गार्ड ने ही अपने साथियों के साथ मिलकर इस चोरी की घटना को अंजाम दिया था.

कम्पनी में करोड़ों की पीतल की धातु चुराने वाले गैंग को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. बताया जा रहा है कि गार्ड ने ही अपने साथियों के साथ मिलकर इस चोरी की घटना को अंजाम दिया था.

मामला बीते 3 और 4 फरवरी की रात नोएडा थाना फेस-3 क्षेत्र के सेक्टर 63 स्थित डी-50 कम्पनी का है. जहां करोड़ों रुपये की पीतल चोरी के मामले में कपंनी के मालिक दीपक बंसल ने एफआईआर दर्ज कराई थी. जिसके बाद पुलिस ने आज 7 अभियुक्तों को कैश के साथ गिरफ्तार किया है. वहीं चोरी की गई पीतल की बनी व अधबनी टोंटी की कीमत 1 करोड़ 15 लाख आंकी गई है.

पुलिस ने कुल 7 लोगों को गिरफ्तार किया है. जिनका असली सरगना कुलदीप उर्फ़ कमलू है. वहीं कम्पनी में राजू सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी कर रहा था. गार्ड को कम्पनी की सारी जानकारियां थी. कम्पनी में क्या बनता है और कितने का माल रखा है इस बता की पूरी जानकारी गार्ड ने ही अपने साथी कुलदीप को दी थी. जिसके बाद गैंग का सरगना कुलदीप ने गार्ड राजू से रेकी करने के लिया कहा और फिर चोरी करने का प्लान बनाया. जिसके आधार पर 3 और 4 फरवरी की रात इस घटना को अंजाम दिया गया.

दरअसल पुलिस को मुखबिर के माध्यम से यह सूचना मिली थी कि कम्पनी का चोरी किया गया माल, नोएडा से दिल्ली बेचने के लिए ले जाया जा रहा है. जिसके बाद पुलिस ने सूचना के आधार पर चेकिंग अभियान चलाकर बहलोलपुर के पास एक कैश वैन को रोका और फिर उसमें बैठे तीन संदिग्धों से पूछताछ की. पूछताछ में ये लोग कोई जानकारी सही से नहीं दे पाए और न ही ये बता पाए कि पैसा कहां से ला रहे थे और कहां ले जा रहे थे. जिसके बाद उन लोगों को गिरफ्तार किया गया.

पुलिस के पास से कोई आरबीआर के मानक जैसे सबूत मिले हैं. पुलिस की मानें तो जो वैन की चेकिंग के दौरान पीतल की बनी व अधबनी टोंटी मिली है जिसकी कीमत लगभग 1 करोड़ 15 लाख बताई जा रही है. फ़िलहाल पुलिस इन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों का नाम कुलदीप, दीपक, राकेश कुमार, इरफ़ान बाबू, नीरज, पंकज बताया जा रहा है. यह गिरफ्तारी नोएडा थाना फेस-3 इलाके में की गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *