लाइफस्टाइल

Why Tapsee Pannu Dedicated Film To Her Mother इन वजहों से तापसी ने की ‘सांड की आंख’ अपनी मां को समर्पित

Why Tapsee Pannu Dedicated Film To Her Mother फिल्म शार्पशूटर्स चंद्रो और प्रकाशी तोमर के जीवन पर आधारित है। तापसी और भूमि ने दुनिया की सबसे उम्रदराज़ शूटर्स का किरदार निभाया है।

नई दिल्ली, Why Tapsee Pannu Dedicated Film To Her Mother: एक्ट्रेस तापसी पन्नू ने अपनी अगली फिल्म सांड की आंख अपनी मां को समर्पित करने का फैसला किया है। तापसी को इस फिल्म में काम करते समय अहसास हुआ कि उनकी मां ने भी परिवार के लिए किस तरह अंगिनत बलिदान दिए।

फिल्म ‘सांड की आंख’ शार्पशूटर्स चंद्रो और प्रकाशी तोमर के जीवन पर आधारित है। फिल्म में तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर ने दुनिया की सबसे उम्रदराज़ शार्पशूटर्स का किरदार निभाया है। फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे इन दो महिलाओं ने अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए परंपरा को परिभाषित किया और 65 वर्ष की उम्र के बाद 30 से अधिक राष्ट्रीय चैंपियनशिप जीतकर नाम कमाया।

तापसी ने कहा, ” इनकी कहानी सुनकर, मैं यह सोचने पर मजबूर हो गई कि मेरी मां ने भी कितने बलिदान दिए। ये कहानी उन दो महिलाओं के बारे में है जिन्होंने अपनी ज़िंदगी सिर्फ अपने मां-बाप, पति और फिर अपने बच्चों के लिए जी, लेकिन कभी भी अपनी शर्तों पर जिंदगी नहीं जी पाईं। मेरी मां 60 साल की हैं, इसलिए ये फिल्म बेहद खास है। एक बेटी होने के नाते मैं चाहती हूं कि मेरी मां अपने जीवन का आनंद स्वतंत्र रूप से ले जैसे वो चाहती हैं। मैं उम्मीद करती हूं कि उन्हें ये फिल्म देखकर वह मिले।

तापसी ने फिल्म के पहले ट्रेलर लॉन्च के दौरान मीडिया से कहा, ” मैं इस फिल्म को अपनी मां को समर्पित करना चाहती हूं। मुझे उम्मीद है कि लोग अपनी मां, दादी-नानी और अपने मां-बाप को ये फिल्म दिखाने ज़रूर लाएंगे। यह दिवाली सिनेमाघरों में सही मायने में पारिवारिक दिवाली होनी चाहिए।”

ये फिल्म तुषार हीरानंदानी के निर्देशन में बनी ‘सांड की आंख’ में तापसी के साथ भूमी पेडनेकर भी नज़र आएंगी। फिल्म के बारे में बात करते हुए तापसी ने कहा, “हमेशा से ऐसी फिल्म करना चाहती थीं जिसमें दोनों एक्ट्रेसेज़ का बराबरी का रोल हो। जब मैंने फिल्म की कहानी सुनी तो मेरी आंखों में आंसू आ गए थे और मैंने 10 सेकेंड में इसके लिए हां कर दी। मुझे लगता है कि चंद्रो और प्रकाशी हमारे देश के लोगों के लिए एक बड़ी प्रेरणा हैं।”

‘सांड की आंख’ में दो अभिनेत्रियां लीड रोल में हैं, जो हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री में कम ही देखने को मिलता है। तापसी ने इसके बारे में बात करते हुए कहा, ” मुझे नहीं लगता कि एक अकेला इंसान कभी पूरी फिल्म बना सकता है। एक फिल्म बनाने के पीछे कई लोग शामिल होते हैं, चाहे उसमें एक ही हीरो या हिरोइन हो। मुझे लगता है कि बाकि फिल्मों से काफी अलग है, लेकिन मुझे उन चीज़ों को करने की आदत है, जो अक्सर अलग होती हैं।

आपको बता दें कि ‘सांड की आंख’ के निर्माता अनुराग कश्यप, रिलायंस एंटरटैनमेंट और निधि परमार हैं। यह फिल्म 25 अक्टूबर को रिलीज़ होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *