क्राइम

साधुओं की मॉब लिंचिंग के दूसरे दिन भी पुलिस पर पथराव, SDPO को करनी पड़ी थी फायरिंग

मॉब लिंचिंग की घटना के बाद जब 17 अप्रैल को पुलिस टीम आरोपियों को गिरफ्तार करने पहुंची तो ग्रामीणों ने फिर से पथराव किया. इस दौरान एसडीपीओ जवाहर ने दो राउंड फायरिंग की और लोगों को तितर-बितर किया.

महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं और उनके ड्राइवर की मॉब लिंचिंग का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. एक ओर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दोषियों को नहीं बख्शेंगे की बात कही है, तो दूसरी ओर लापरवाही के आरोप दो पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है. एक हाईलेवल कमेटी को मामले की जांच कर रही है. जांच में पुलिसिया लापरवाही की एक और पोल खुली है.

साधुओं की मॉब लिंचिंग से पहले की शाम पुलिस इंस्पेक्टर काले, एक डॉक्टर और तीन पुलिसकर्मियों पर ग्रामीणों ने हमला किया था. इसके बाद भी पुलिस की ओर से जरूरी कदम नहीं उठाए गए. न तो अफवाहों को रोकने की कोशिश की और न ही ग्रामीणों की अवैध पहरेदारी को हटाया गया. अगर उस वक्त कार्रवाई की गई होती तो शायद साधुओं के साथ घटना नहीं होती.

मॉब लिंचिंग की घटना के बाद भी पुलिस पर ग्रामीणों ने हमला किया था. घटना के बाद जब 17 अप्रैल को पुलिस टीम आरोपियों को गिरफ्तार करने पहुंची तो ग्रामीणों ने फिर से पथराव किया. इस दौरान एसडीपीओ जवाहर ने दो राउंड फायरिंग की और लोगों को तितर-बितर किया. इसके बाद से अब तक 110 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

महाराष्ट्र के डीजीपी ने कहा कि पालघर मामले में अब तक 110 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इसमें 9 नाबालिग हैं. पूरे मामले की जांच सीआईडी क्राइम को सौंप दी गई है. इसके अलावा पुलिस स्टेशन की लापरवाही की जांच आईजी कोंकण कर रहे हैं. इस मामले में दो पुलिसकर्मी सस्पेंड किए जा चुके हैं.

इस बीच सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि ये हिंदू-मुस्लिम जैसा कोई मामला नहीं है, मेरी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से भी बात हुई है. हर किसी को समझाया गया है कि ये धर्म से जुड़ा मामला नहीं है, लेकिन जो भी सोशल मीडिया के जरिए आग लगाने और मामला भड़काने की कोशिश करेगा उसपर कड़ा एक्शन लिया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *