बड़ी खबर मुख्य समाचार

पीएम मोदी ने लिखा जनता को खुला पत्र, आप भी पढ़ें; कहा- भारत में दुनिया को चकित करने का साम‌र्थ्य

लॉकडाउन के कारण राजनीतिक रैलियों पर पाबंदी व शारीरिक दूरी के दिशा-निर्देशोंको देखते हुए प्रधानमंत्री ने खुले पत्र के माध्यम से जनता के साथ संवाद कायम करने का फैसला लिया।

नई दिल्‍ली। कोरोना संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में भारत विजय पथ पर अग्रसर है और जीत सुनिश्चित है। दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर आम जनता को लिखे खुले पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता की सामूहिक शक्ति पर भरोसा जताते हुए कहा,’130 करोड़ भारतीयों का वर्तमान और भविष्य कोई आपदा या विपत्ति तय नहीं कर सकती।’ सरकार के पिछले एक साल के कामकाज का लेखा-जोखा देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने पूरी सजगता, संवेदनशीलता के साथ काम किया है।

लॉकडाउन के कारण राजनीतिक रैलियों पर पाबंदी व शारीरिक दूरी के दिशा-निर्देशोंको देखते हुए प्रधानमंत्री ने खुले पत्र के माध्यम से जनता के साथ संवाद कायम करने का फैसला लिया। प्रधानमंत्री के अनुसार लॉकडाउन के कारण हो रही परेशानियों के बावजूद सामूहिक संकल्प शक्ति के बल पर हमने कोरोना को भारत में उस तरह फैलने से रोकने में सफल रहे, जैसी आशंका जताई जा रही थी।

उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में विजय पथ पर अग्रसर हैं और इसमें जीत सुनिश्चित है। इसके लिए आम लोगों को कोरोना से बचने के लिए जारी दिशा-निर्देशों का पालन करने की जरूरत बताते हुए उन्होंने कहा कि ‘हमारे एक हाथ में कर्म और कर्तव्य है, तो दूसरे हाथ में सफलता सुनिश्चित है।

प्रधानमंत्री मोदी के अनुसार, कोरोना के बाद अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाना दुनिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती बन गई है। भारत में आर्थिक क्षेत्र में दुनिया को चकित और प्रेरित करने का साम‌र्थ्य है, लेकिन इसके लिए पहले देश को आत्मनिर्भर बनाना होगा।

प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि 20 लाख करोड़ रुपये के आत्मनिर्भर भारत पैकेज के सहारे भारत आयात पर निर्भरता कम कर आत्मनिर्भर बनने में सफल होगा। वैसे उन्होंने यह स्वीकार किया कि यह काम इतना आसान नहीं है और देश के सामने बहुत सारी चुनौतियां और समस्याएं हैं। जिन्हें दूर करने के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने पिछले एक साल में सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए कहा कि अनुच्छेद 370, राम मंदिर, तीन तलाक और नागरिकता कानून में संशोधन लंबे समय तक याद रखे जाएंगे। इन फैसलों को ऐतिहासिक बताते हुए उन्होंने कहा कि इससे भारत की विकास यात्रा को नई गति मिली है और लोगों की लंबे समय की अपेक्षाएं पूरी हुई हैं। सेनाओं के बीच समन्वय बढ़ाने के लिए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के पद के गठन और 2022 में मिशन गगनयान की तैयारियों को उन्होंने सरकार की उपलब्धियां बताया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले एक साल में सरकार ने पीएम किसान निधि के तहत साढ़े नौ करोड़ किसानों को 72 हजार करोड़ रुपये की सहायता, किसान, खेत मजदूर, छोटे दुकानदार और असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूरों के लिए तीन हजार रुपये की पेंशन सुनिश्चित करने का काम किया है। वहीं, 50 करोड़ पशुओं के टीकाकरण और 15 करोड़ ग्रामीण घरों में नल से शुद्ध पीने का पानी पहुंचाने का काम जारी है। उन्होंने कहा कि पिछले छह साल में उठाए गए कदमों की वजह से शहरों और गांवों की खाई कम हुई है।

पीएम मोदी ने कहा कि पहली बार देश में इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या शहरों की तुलना में गांवों में 10 फीसद ज्यादा हो गई है। इस क्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने अपने पिछले कार्यकाल में हुई सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक, वन रैंक वन पेंशन और जीएसटी जैसे फैसलों का उल्लेख किया। इन जनोन्मुखी फैसलों की वजह से जनता की आकांक्षाएं परवान चढ़ी और उन्हें पूरा करने के लिए जनता ने मोदी सरकार पर दोबारा भरोसा जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *