बड़ी खबर राष्ट्रीय

तूफान की दस्तक से सहमा गुजरात, महाराष्ट्र, इन राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

Cyclone MAHA गुजरात के तटीय इलाके की तरफ तूफान महा तेजी से बढ़ रहा है। इसके साथ ही बंगाल की खाड़ी में भी एक नया चक्रवाती तूफान बुलबुल बनता हुआ दिखाई दे रहा है।

नई दिल्ली, चक्रवाती तूफान ‘महा’ अब और अधिक शक्तिशाली हो गया है। गुजरात, महाराष्ट्र और गोवा में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। इसके साथ ही मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह भी दी गई है। गुजरात के तटीय इलाके की तरफ तूफान तेजी से बढ़ रहा है। इसके साथ ही बंगाल की खाड़ी में भी एक नया चक्रवाती तूफान बुलबुल बनता हुआ दिखाई दे रहा है। बुलबुल इस साल का 7वां चक्रवाती तूफान होगा।

अरब सागर में उठा चक्रवाती तूफान ‘महा’ अब और अधिक शक्तिशाली हो गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, चक्रवाती तूफान ‘महा’ के कारण उत्तर कोंकण और गुजरात में आंधी के साथ तेज बारिश होगी। इसके साथ ही इसका असर महाराष्ट्र और गोवा में भी दिखाई देगा।

मौसम विभाग का मानना है कि 6 नवंबर की रात या 7 नवंबर की सुबह चक्रवात ‘महा’ गुजरात के पोरबंदर और दीव के बीच समुद्री तट से टकरा सकता है। इस दौरन वहां 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। तेज हवाओं के साथ-साथ ही तटीय इलाकों में भारी बारिश की संभावना जताई जा रही है।

वहीं दूसरा तूफान बुलबुल भारत के पूर्वी तटों को प्रभावित करने वाला है। लेकिन इसके हिट करने की लोकेशन का अभी सटीक अंदाज़ा नहीं लगाया जा सकता है। हालांकि अधिक संभावना ओडिशा या उत्तरी आंध्र प्रदेश के तटीय भागों पर इसके लैंडफॉल के संकेत अभी मिल रहे हैं।

आपदा प्रबंधन बल दल तटों पर तैनात

गुजरात में मौसम के बिगड़ते मिजाज को देखते हुये कैबिनेट सचिव राजीव गाबा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) की बैठक में गुजरात, महाराष्ट्र और दमन एवं दीव में आने वाले महा चक्रवात से निपटने की तैयारी का जायजा लिया गया। बैठक में गुजरात और महाराष्ट्र के मुख्य सचिवों ने बताया कि दोनों राज्यों में जरूरी तैयारियां कर ली गई है तथा आपदा प्रबंधन बल के दलों को तटरक्षक एवं नौसेना के पोतों के साथ तैनात कर दिया गया है।

चक्रवात फणि के बाद बुलबुल से ओडिशा में दहशत

ओडिशावासी अभी कुछ माह पहले आए ‘फणि’ चक्रवात से पूरी तरह से उबर भी नहीं पाए हैं कि प्रदेश में एक और चक्रवात के आने की आशंका ने लोगों में दहशत का माहौल उत्पन्न कर दिया है। मौसम विभाग के अनुसार उत्तर अंडमान के पास सागर में बना कम दबाव का क्षेत्र अब डिप्रेशन में तब्दील हो गया है। इसके अगले 12 घंटे में और गहराने की आशंका है। जिससे यह अगले 24 घंटे में तूफान का रूप धारण कर सकता है। मौसम विभाग का कहना है कि अगर यह डिप्रेशन तूफान का रूप धारण करता है तो फिर इसका नाम ‘बुलबुल’ रखा जाएगा।

यह तूफान ओडिशा या पश्चिम बंगाल में किस स्थल से टकराएगा, फिलहाल यह अभी स्पष्ट नहीं हो सका है। फिर भी सतर्कता के तौर पर संभावित तूफान को देखते हुए ओडिशा में तमाम बंदरगाहों पर एक नंबर खतरे का निशान जारी कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक फिलहाल इसका केंद्र पारादीप से करीब 950 किलोमीटर दूर है। बुधवार तक इसके और अधिक सक्रिय हो जाने की आशंका है। इसके बाद ही यह तूफान का रूप ले सकता है। इसके बाद इसके उत्तर ओडिशा, बंगाल होते हुए बांग्लादेश की ओर बढ़ने का पूर्वानुमान है।

राजस्थान के कई जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान ‘महा’ के असर से राजस्थान के 13 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग के अनुसार 7 नवंबर को प्रदेश के दक्षिणी हिस्से के कई जिलों में भारी बारिश होने के आसार हैं। इसके साथ ही 80-100 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से हवा चलने की संभावना भी है। मौसम विभाग के अनुसार चक्रवात ‘महा’ का असर आगामी 4 से 5 दिन तक दिखाई देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *