छत्‍तीसगढ़ और बिहार में नक्‍सलियों का उत्‍पात, निर्माण के काम में लगे वाहनों, मशीनों को फूंका

नक्‍सलियों ने छत्‍तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में किरंदुल थाने के नजदीक तीन ट्रकों और एक पोकलैन मशीन जबकि बिहार के बाराचट्टी इलाके में पोकलैन मशीन को आग के हवाले कर दिया।

नई दिल्ली, स्टार सवेरा ।

देश में नक्‍सली हिंसा की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। इस बार नक्‍सलियों ने छत्‍तीसगढ़ और बिहार में निर्माण के काम में लगे वाहनों और मशीनों को अपना निशाना बनाया है। नक्‍सलियों ने छत्‍तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में किरंदुल थाने के नजदीक तीन ट्रकों और एक पोकलैन मशीन जबकि बिहार के बाराचट्टी इलाके में एक पोकलैन मशीन को आग के हवाले कर दिया।

इससे पहले कोंडागांव जिले के मर्दापाल थाना क्षेत्र में नक्सलियों ने सड़क निर्माण कार्य में लगे वाहन को शनिवार रात को आग के हवाले कर दिया था। साथ ही धमकी दी थी कि जो भी क्षेत्र में सड़क निर्माण कार्य करेगा, उसे वे जन अदालत में मौत की सजा देंगे। बीते 11 मई को सुकमा जिले से सटे सीमावर्ती राज्य ओडिशा के मलकानगिरी जिले में नक्सलियों ने लैंडमाइन धमाका किया था जिसमें ओड़िसा एसओजी के दो जवान घायल गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

उल्‍लेखनीय है कि गढ़चिरौली में पहली मई को नक्‍सलियों ने पुलिस वाहन को निशाना बनाकर एक IED ब्‍लास्‍ट किया था। इस हमले में सी-60 फोर्स के 15 जवान और एक ड्राइवर शहीद हो गए थे। यह हमला कुरखेड़ा तहसील के जामभुरखेड़ा गांव में हुआ था। हमले के वक्‍त महाराष्ट्र पुलिस के सी-60 कमांडो दो निजी बस में सवार होकर कोरसी की ओर जा रहे थे। कोरसी, छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले की सीमा से लगा इलाका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *