बड़ी खबर राजनीति

सिख समाज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी संत पुरुष की उपाधि


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में 550वें प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में गुरु स्थान को याद किया था।

मुहम्मद रई, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में गुरुनानक देव महाराज के 550वें प्रकाशोत्सव को याद करते हुए गुरुद्वारा गुरुबाग का जिक्र किया। सिख समाज ने पीएम की सराहना करते हुए उन्हें संत की उपाधि से नवाजा।

समाज के परमजीत सिंह अहलूवालिया ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी हर विषय पर सोच-समझकर बोलते हैं। वे संत पुरुष हैं, जो उनकी बातों से भी झलकता है। गुरुनानक देव महाराज ने जिस तरह सभी धर्म -संप्रदाय का सम्मान किया, पीएम भी उसी तर्ज पर सभी को मान-सम्मान दे रहे हैं। गुरुद्वारा गुरुबाग गुरु नानक देव महाराज की चरण स्पर्श भूमि है। गुरु के इस पावन धरती का जिक्र पीएम ने हृदय से किया है।

उन्हें यहां दर्शन भी जरूर करना चाहिए। ज्ञात हो कि गुरुनानक देव महाराज का 550वां प्रकाशोत्सव 12 नवंबर को गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी व समूह संगत के सहयोग से गुरुद्वारा गुरुबाग में मनाया जाएगा। इस क्रम में जहां ऐतिहासिक प्रभातफेरियों का क्रम जारी है, वहीं बीएचयू अस्पताल में लंगर भी चलाया जा रहा है।

गुरुनानक देव ने यहीं किया था शापग्रस्त विद्वान का उद्धार

गुरुद्वारा गुरुबाग के मुख्य ग्रंथी भाई सुखदेव सिंह बताते हैं कि फरवरी 1507 में शिवरात्रि के अवसर पर गुरु नानक देव वाराणसी की यात्र पर थे।वर्तमान गुरुद्वारे के स्थान पर उस समय यहां सुंदर बाग था। इसी स्थान पर गुरु नानक देव शबद-कीर्तन कर रहे थे, जिससे प्रभावित होकर बाग के मालिक पंडित गोपाल शास्त्री उनके शिष्य बन गए। गुरु नानक देव के आकर्षक प्रभाव से पूरी नगरी में उनकी जय-जयकार होने लगी।

उन्हीं दिनों कई विद्वानों को शास्त्रर्थ में पराजित करने वाले पंडित चतुरदास ईष्र्यावश गुरु नानक देव के पास पहुंचे। इस पर गुरु नानक ने मुस्कुराते हुए स्वयं कहा कि पंडित चतुरदास जी यदि आप को मुझसे कुछ प्रश्न करने हैं तो इस बाग के भीतर एक कुत्ता है, आप उसे यहां लाइए, वही आपके प्रश्नों का उत्तर देगा। हम इस वाद-विवाद के झमेले में पड़ना नहीं चाहते।

गुरुजी का इशारा पाकर पंडित जी कुछ ही दूर गए थे कि उन्हें कुत्ता मिला, जिसे वे लेकर आए। गुरु नानक देव ने जब उस पर दृष्टि डाली तो कुत्ते के स्थान पर सुंदर स्वरूप धोती, जनेऊ, तिलक, माला आदि धारण किए एक विद्वान बैठा नजर आया। लोगों के पूछने पर उसने बताया कि मैं भी एक समय विद्वान था, लेकिन मेरे भीतर ईष्या व अहंकार भरा हुआ था।

काशी में आने वाले सभी साधु, संत, महात्मा, जोगी, सन्यासी को अपने शास्त्रर्थ से निरुत्तर कर यहां से भगा देता था। एक बार एक महापुरुष से काफी देर तक वाद-विवाद करता रहा। उन्होंने मेरे हठधर्मिता पर मुङो शाप दे दिया। माफी मांगने पर उन्होंने कहा कि कलयुग में गुरु नानक जी का आगमन होगा, उनकी कृपा दृष्टि से ही तेरा उद्धार होगा।

गुरु नानक देव ने उपदेश देते हुए कहा कि कर्म कांड और बाह्य आडंबर में लोग लिप्त हैं, लेकिन इनसे मोक्ष की प्राप्ति तब तक नहीं हो सकती जब तक कि निश्चय के साथ परम पिता का स्मरण न किया जाए। गुरुजी के अलौकिक वचनों को सुन सभी के शीश श्रद्धापूर्वक गुरु चरणों में झुक गए, वहीं पंडित चतुरदास का मन भी निर्मल हो गया। इस पर पंडित गोपाल शास्त्री ने कहा कि गुरु महाराज आपके चरण पड़ने से मेरा ये बाग पवित्र हो गया है। इसलिए अब ये बाग आपके चरणों में समर्पित है। उसी दिन से यह बाग ‘गुरुबाग’ के नाम से प्रसिद्ध हो गया।

मन की बात कार्यकर्ताओं ने सुनी दिल से

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के किसी भी संबोधन को उनके संसदीय क्षेत्र वाराणसी के कार्यकर्ता व पदाधिकारी छोड़ते नहीं हैं। रविवार को जब पीएम ने मन की बात की तो शहर में कई स्थानों पर लोगों ने ध्यान से सुना और उसको अपने व्यवहार में उतारने का संकल्प लिया। पीएम ने अयोध्या पर पूर्व के कोर्ट के निर्णय पर बयान बहादुरों, बड़बोलों को आड़े हाथ लिया। कहा वे अपने को चर्चा में लाने के लिए तरह-तरह के बयान देते हैं। इन बयानों से हमारी एकता प्रभावित होती है लेकिन साधु संतों एवं समाज के जिम्मेदार लोगों के संयम से सब ठीक हो जाता है। इसे सभी ने ध्यान रखने का संकल्प लिया।

स्वच्छता अभियान, स्थानीय उत्पादों की खरीदारी, गुरुनानक देव के जन्म दिवस पर प्रकाशोत्सव मनाने, बेहतर काम करने वाली नारी शक्ति को लक्ष्मी रूप में सम्मान देने आदि को कार्यकर्ताओं ने सराहा और समय की मांग बताया। मिंट हाउस पर मन की बात कार्यक्रम में भाजपा काशी क्षेत्र के उपाध्यक्ष धर्मेद्र सिंह समेत सिद्धनाथ शर्मा, सुशील गुप्ता, राजेन्द्र यादव, महादेव, सुरेन्द्र पांडेय, महेन्द्र यादव, रामसकल पटेल, दिनेश राय, संदीप सिंह सत्यप्रकाश आर्य, दिनेश सिंह भग्गू आदि शामिल हुए। इसी प्रकार कोदई चौकी पर समेत शहर में कई अन्य स्थानों पर लोगों ने पीएम के मन की बात सुनी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *