पूर्वी दिल्ली की रबर फैक्टरी में भीषण आग, दो महिलाओं समेत तीन की मौत, कई लोग फंसे

पूर्वी दिल्ली में लगी भीषण आग के मद्देनजर यहां पर नेताओं का पहुंचना शुरू हो गया है। बताया जा रहा है कि तंग गलियों की वजह से आग पर काबू पाने में दिक्कत आ रही है।

देश की राजधानी दिल्ली में लगातार आग लगने की घटनाएं हो रही हैं। ताजा मामले में शनिवार सुबह पूर्वी दिल्ली के झिलमिल इलाके में स्थित फ्रेंड्स कॉलोनी इंडस्ट्रियल एरिया की नल और टोटो बनाने की एक फैक्टरी में भीषण आग लग गई। सूचना पर पहुंची दमकल की 26 गाड़ियां आग पर काबू पाने में जुटी हुई हैं।

ताजा जानकारी के मुताबिक, फैक्टरी से निकाली गई दो महिलाओं और एक युवक को अस्पताल ले जाया गया। बताया जा रहा है कि तीनों धुएं की चपेट में आग बेहोश हो गए थे। अब इन तीनों लोगों की मौत हो गई। इनमें एक का नाम शोएब है। फैक्टरी नईम नामक शख्स की बताई जा रही है।

एक दिन पहले ESI अस्पताल में लगी थी आग
एक दिन पहले ही बाहरी दिल्ली के बसईदारापुर स्थित ईएसआइ अस्पताल में शुक्रवार सुबह करीब सवा नौ बजे उस वक्त अफरातफरी की स्थिति बन गई, जब लोगों को पता चला कि अस्पताल में आग लग गई। आग अस्पताल की तीसरी मंजिल पर बने ऑपरेशन थिएटर में लगी थी। आग लगने से निकले धुएं के कारण ऑपरेशन थिएटर से सटे पोस्ट व प्री रिकवरी रूम में मौजूद मरीजों का दम घुटने लगा। आनन-फानन में कर्मचारियों ने इन्हें बाहर निकालकर अन्य कमरों में शिफ्ट किया। इससे पहले कि अग्निशमन दस्ता पहुंचता, अस्पतालकर्मियों ने ही आग पर काबू पा लिया। अग्निशमन विभाग की टीम पूरे अस्पताल का निरीक्षण कर पता करेगी कि भवन में अग्निशमन से जुड़े तमाम यंत्र सही हैं या नहीं। इस बाबत एक रिपोर्ट तैयार की जाएगी। अग्निशमन अधिकारियों ने बताया कि आग लगने की सूचना सुबह नौ बजकर दस मिनट पर मिली। अग्निशमन विभाग की चार दमकल गाड़ियां भेजी गई। लेकिन, गाड़ियों के पहुंचने से पहले ही अस्पतालकर्मी आग पर काबू पा चुके थे। बावजूद एहतियात के तौर पर अग्निशमनकर्मियोंने मुआयना किया। प्राथमिक तौर पर आग लगने का कारण शॉर्ट शर्किट बताया जा रहा है।

सबसे पहले सर्जिकल पेंडेंट यूनिट में लगी आग
अग्निशमन विभाग के अनुसार, ऑपरेशन थिएटर में आग की शुरुआत सर्जिकल पेंडेंट यूनिट से हुई। यह यूनिट कमरे के छत से जुड़ा होता है। आग छत के नीचे सीलिंग से शुरु हुई और देखते ही भड़क गई। सुबह के समय कुछ मरीजों को ऑपरेशन के लिए प्री रिकवरी वार्ड में लाया गया था। कुछ मरीज पोस्ट रिकवरी वार्ड में भी थे। ऑपरेशन थिएटर में जब आग लगी तब वहां कुछ कर्मचारियों ने आग देखते हुए फायर इ¨स्टग्विशर का इस्तेमाल किया और आग पर काबू पाया। हालांकि, आग से ऑपरेशन थिएटर को काफी नुकसान पहुंचा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *