दिल्ली बड़ी खबर

दिल्ली-NCR के लाखों CNG वाहन चालकों को झटका, ODD Even में नहीं मिलेगी छूट !

ODD Even Scheme ऑड-इवेन में किसे छूट मिले? इस पर दिल्ली सरकार द्वारा मांगी गई राय पर परिवहन विभाग ने रिपोर्ट बनाई है। इसमें सीएनजी कारों को छूट नहीं दिए जाने की वकालत की गई है।

नई दिल्ली । ODD Even Scheme: अगले महीने 5-15 नंबर तक दिल्ली में लागू होने जा रही ऑड-इवेन के पहले दिल्ली-NCR (National Capital Region) के लाखों सीएनजी वाहन चालकों के लिए बुरी खबर आ रही है। दरअसल, ऑड-इवेन में किसे छूट मिले? इस पर दिल्ली सरकार द्वारा मांगी गई राय पर परिवहन विभाग ने तीन पेज की रिपोर्ट तैयार की है। इसमें सीएनजी कारों को छूट नहीं दिए जाने की वकालत की गई है। रिपोर्ट शुक्रवार शाम परिवहन मंत्री को सौंप दी गई।

अब मंत्री के माध्यम से यह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Chief Minister Arvind Kejriwal) को सौंपी जाएगी। फिर यह दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी (aad aadmi party) सरकार पर निर्भर करेगा कि वह इसे मानती है या नहीं।

वहीं, परिवहन विभाग ने जो रिपोर्ट दी है, उसमें सीएनजी से चलने वाली कारों को छूट देने से साफ मना किया गया है। विभाग ने इसके पीछे का कारण ऐसे वाहनों को लेकर लंबी निगरानी प्रक्रिया का होना बताया है। विभाग का कहना है कि महिलाओं को ऑड-इवेन से छूट दी जानी चाहिए। दोपहिया वाहनों को सुबह 8 बजे से 11 बजे तक छूट देने की बात है। सुझाव में यह बात नहीं कही गई है कि शाम को भी दोपहिया को छूट मिले। कार्यालयों का समय पूर्वाह्न् 11 बजे से शाम साढ़े सात बजे तक किए जाने की बात कही गई है।

वहीं, विभाग द्वारा भेजी गई रिपोर्ट के बारे में पूछे जाने पर परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि रिपोर्ट मिल गई है। अभी यह मुख्यमंत्री अर¨वद केजरीवाल को सौंपी जाएगी। इस मामले में कोई भी फैसला सरकार लेगी। उन्होंने रिपोर्ट को लेकर अधिक जानकारी नहीं दी, लेकिन यह कहा कि विभाग की रिपोर्ट में सुझाव दिया गया है कि सीएनजी वाहनों को छूट न दी जाए।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने परिवहन विभाग को निर्देश दिया था कि वह इस पर राय दे कि ऑड-इवेन के दौरान किसे छूट दी जाए। रिपोर्ट तीन दिन के अंदर देने के लिए कहा गया था। दिल्ली में 4 नवंबर से 15 नवंबर के दौरान ऑड-इवेन लागू किया जाना है।
यहां पर बता दें कि अब तक जितनी बार भी दिल्ली में ऑड-इवेन स्कीम को लागू किया गया, सीएनजी वाहनों को छूट मिलती रही है। इसके पीछे बड़ी वजह यह है कि ये वाहन प्रदूषण नहीं फैलाते हैं। इतना ही नहीं, पिछले कई बार लागू हुए ऑड-इवेन के दौरान लोगों ने सीएनजी कारों में ‘कार पूलिंग’ को प्राथमिकता दी थी।

अगर परिवहन विभाग का फैसला दिल्ली सरकार अमल में लाई और ऑड-इवेन के दौरान सीएनजी वाहनों को रोका गया तो आगामी दिल्ली विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस इसे बड़ा मुद्दा भी बना सकती है। वजह यह है कि यह मुद्दा आम जनता से जुड़ा है। बता दें कि दिल्ली में ऑड-ईवेन के दौरान लोगों की निर्भरता दिल्ली मेट्रो और दिल्ली परिवहन निगम की बसों में बढ़ जाती थी, लेकिन दोनों की झमता सीमित है। ऐसे में सीएनजी वाहनों को भी ऑड-ईवन के दायरे में लाए जाने की स्थिति में दिल्ली की परिवहन व्यवस्था ही चरमरा जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *