बड़ी खबर लाइफस्टाइल

रेन में बिना नेटवर्क भी ले पाएंगे फ्री में हाई-स्पीड वीडियोज का मजा

RailTel रेल मंत्रालय के तहत इस योजना की अगुवाई कर रहा है। इस ऐप को फेजेज में लॉन्च किया जाएगा

नई दिल्ली, भारतीय रेलवे अपने यात्रियों को यात्रा को और सुखद बनाने की पुरजोर कोशिश कर रहा है। रेलवे एक कंटेंट स्ट्रीमिंग ऐप लॉन्च करने की तैयारी मे है जो ट्रेन पैसेंजर्स के लिए एक एक्सक्लूसिव ऐप होगी। इसे यात्री अपने स्मार्टफोन, टैबलेट या लैपटॉप पर आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं। इसमें कई प्रीलोडेड मल्टीलिंगुएल कंटेंट उपलब्ध कराया जाएगा।

RailTel, रेल मंत्रालय के तहत इस योजना की अगुवाई कर रहा है। इस ऐप को फेजेज में लॉन्च किया जाएगा। अगले 45 दिनों में 4 चुनिंदा ट्रेनों के यात्रियों के लिए यह ऐप उपलब्ध करा दी जाएगी।

बिना बफरिंग मिलेगा हाई-स्पीड कंटेंट की सुविधा: ट्रेन कोचेज में कंटेंट सर्वर्स के साथ वाई-फाई एक्सेस प्वाइंट्स इंस्टॉल किए जाएंगे। इसके कंटेंट को RailTel डाटा सेंटर्स में इंस्टॉल्ड सेंट्रल सर्वर के जरिए मैनेज किया जाएगा। यह डाटा सेंटर्स गुरूग्राम और सिंकदराबाद में हैं। इस कंटेंट को हाई-स्पीड में उपलब्ध कराया जाएगा। ऐसे में अगर ट्रेन चल भी रही होगी तो भी आपको हाई-स्पीड कंटेंट देखने को मिलेगा।

RailTel का कहना है कि स्टेशन वाई-फाई नेटवर्क पर सभी ट्रेनों के कोच सर्वर्स को समय-समय पर स्वचालित और रिफ्रेश किया जाएगा। इसे 5573 रेलवे स्टेशन्स पर उपलब्ध कराया गया है। यह एक फ्रीमियम मॉडल ऐप होगी। इसमें यात्रियों को फ्री कांटेंट उपलब्ध कराया जाएगा। कंटेंट के बीच में एड भी नहीं दिए गए होंगे। वहीं, अगर यात्री प्रीमियम सब्सक्रिप्शन लेना चाहते हैं तो यह ऑनलाइन ट्रांजेक्शन्स को भी सपोर्ट करेगा।

यह ऐप सभी प्रीमियम, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में उपलब्ध कराई जाएगी। इसके साथ ही सभी सबअर्बन ट्रेन और सभी वाई-फाई इनेबल्ड रेलवे स्टेशन्स पर भी इस ऐप का एक्सेस दिया जाएगा। ट्रेनों में वाई-फाई एक्सेस प्वाइंट्स के साथ कंटेंट सर्वर्स भी इंस्टॉल किए जाएंगे जो पैसेंजर की डिवाइस में कंटेंट डिलीवर करेंगे।

इस ऐप में सर्च, वॉच और डाउनलोड कंटेंट का विकल्प मिलेगा। साथ ही यात्री हाई-क्वालिटी कंटेंट जैसे मूवीज, गानें, वेब सीरीज आदि को डाउनलोड भी कर पाएंगे। जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया अगले 45 दिनों में 4 चुनिंदा ट्रेनों के यात्रियों के लिए यह ऐप उपलब्ध करा दी जाएगी। ऐसे ही इसे अगले दो वर्ष यानी 2020 तक सभी ट्रेनों में उपलब्ध करा दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *