बड़ी खबर राष्ट्रीय

CAA प्रदर्शनकारियों पर रेलवे की बड़ी कार्रवाई, 21 गिरफ्तार, 87.99 करोड़ के नुकसान की होगी वसूली

Indian Railways ने पश्चिम बंगाल असम और बिहार में CAA विरोधी प्रदर्शनों में रेल संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले 21 कथित उपद्रवियों को गिरफ्तार किया है। इनसे नुकसान की वसूली होगी।

नई दिल्ली, Railways properties damage in anti CAA protest रेलवे Indian Railways ने पश्चिम बंगाल, असम और बिहार में CAA विरोधी प्रदर्शनों में रेल संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और आगजनी की घटनाओं में शामिल 21 कथित उपद्रवियों की पहचान की है। इनको गिरफ्तार भी कर लिया गया है। RPF के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि करीब 87.99 करोड़ रुपये की संपत्ति के नुकसान की भरपाई तोड़फोड़ की घटनाओं में शामिल लोगों से की जाएगी।

उल्‍लेखनीय है कि संसद द्वारा नागरिकता कानून CAA पारित किए जाने के बाद बीते दिनों देश के विभ‍िन्‍न हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन हुए थे। इन प्रदर्शनों के दौरान भीड़ में शामिल लोगों और पुलिस के बीच हिंसक झड़पें भी हुई थी। बीते दिनों रेलवे ने कलकत्ता हाई कोर्ट में दाखिल अपनी रिपोर्ट में बताया था कि अकेले बंगाल में ही 13 से 15 दिसंबर के बीच हुए इन प्रदर्शनों में 84 करोड़ रुपये की रेल संपत्ति का नुकसान हुआ है।

RPF के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने कहा कि करीब 87.99 करोड़ रुपये की संपत्ति के नुकसान की वसूली उपद्रवों में शामिल लोगों से की जाएगी। रिपोर्टों में कहा गया है कि नाराज प्रदर्शनकारियों ने पटरियों पर बोल्‍डर डाले और ट्रेन के डिब्‍बों को आग के हवाले किया था। अब तक जीआरपी Government Railway Police ने 27 जबकि रेलवे सुरक्षा बल यानी RPF ने 54 मामले दर्ज किए हैं। यही नहीं रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, आगजनी एवं हिंसा के सिलसिले में 21 को गिरफ्तार किया गया है।

RPF अधिकारी ने बताया जिन 21 लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनमें से कुछ को घटनास्थल से पकड़ा गया जबकि कुछ की पहचान वीडियो फुटेज के जरिए की गई। तोड़फोड़ में शामिल लोगों की पहचान के लिए अभी भी वीडियो फुटेज की जांच पड़ताल का काम जारी है। इससे गिरफ्तार लोगों की संख्या और बढ़ने का अनुमान है। अधिकारी के मुताबिक, सर्वाधिक गिरफ्तारियां पश्चिम बंगाल से की गई हैं। संपत्ति की भरपाई के लिए गिरफ्तार किए गए लोगों को नोटिस भेजे जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *