खेल बड़ी खबर

रवि शास्त्री ने क्रिकेट सलाहकार समिति के सामने कही ये बातें और फिर से बन गए कोच, सब रह गए पीछे

रवि शास्त्री ने क्रिकेट सलाहकार समिति को जो तर्क दिए वो कमाल के थे और वही सब पर भारी पड़ गया।
नई दिल्ली। सीएसी (CAC) के सदस्य कपिल देव (Kapil Dev), अंशुमन गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी को यह बताने में कोई दिक्कत नहीं हुई कि रवि शास्त्री (Ravi Shastri) और माइक हेसन के बीच कोच पद की दौड़ के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा दी। हालांकि शास्त्री के बाजी मारने के पीछे उनका एक बयान था, जिसमें शास्त्री ने कहा कि विश्व कप सेमीफाइनल की हार को अगर छोड़ दिया जाए तो भारतीय टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया है।

एक सूत्र ने बताया कि जब शास्त्री स्काइप के जरिये सीएसी के सामने अपनी बात रख रहे थे तो उन्होंने यह साफ कर दिया कि उनका काम अभी पूरा नहीं हुआ है। कोहली की कप्तानी में यह टीम काफी अच्छा कर रही है। कुछ सवाल थे जो सीएसी की तरफ से शास्त्री से पूछे गए, जिसमें एक था न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में क्या हो गया था। उन्होंने साफ किया कि एक खराब दिन टीम को खराब नहीं बना देता है। उन्होंने ध्यान दिलाया कि अभी उनका काम पूरा नहीं हुआ है। उनका इशारा 2020 और 2021 टी-20 विश्व कप पर था।

सूत्र ने कहा कि शास्त्री के अंदर आत्मविश्वास है और वह टीम को बहुत आगे ले जा सकते हैं। ऐसे कुछ मापदंड थे जिसमें शास्त्री ने हेसन को पीछे छोड़ दिया। इसमें उनके निर्देशन में टीम इंडिया का विदेशी धरती पर प्रदर्शन भी था। सीएसी ने यह साफ किया कि चैंपियन टीम वही होती है जो विदेश में अच्छा प्रदर्शन करे। हर टीम घर में अच्छा करती है और टीम ने ऐसा पिछले काफी वर्ष से कर रही है, लेकिन टीम ने शास्त्री के निर्देशन में विदेशी धरती पर भी अच्छा प्रदर्शन करना शुरू किया। किसी ने भी इस तथ्य को नहीं झुठलाया कि मौजूदा समय को देखते हुए शास्त्री और कोहली की जोड़ी बेमिसाल है। खासतौर से शास्त्री ने खुद कोहली की तारीफ की और कहा कि उन्होंने टीम को बदलने में काफी योगदान दिया है। चाहे पेशेवर तौर पर हो या फिर निरंतर प्रदर्शन करना हो।

शास्त्री ने सीएसी से आगे कहा कि टीम के पास ऐसा नेतृत्वकर्ता है जिसे आगे आकर नेतृत्व करने में विश्वास है और ऐसी कोई वजह नहीं है जिससे युवा कोहली को प्रेरणास्त्रोत नहीं माने। साथ ही उन्होंने कहा कि आप देखिए कोहली ने किस स्तर तक अपनी फिटनेस को पहुंचाया है। अब सभी खिलाड़ी सोचते हैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बने रहने के लिए बल्लेबाजी और गेंदबाजी के अलावा फिटनेस भी उतनी जरूरी है। सूत्र ने कहा कि सीएसी हेसन के प्रस्ताव से भी प्रभावित थी लेकिन अंत में शास्त्री का खिलाडि़यों को अच्छे से जानना हेसन पर भारी पड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *