फैमिली संग गर्मी की छुट्टियों को बनाएं यादगार, डलहौजी की सैर के साथ

देवभूमि हिमाचल के रमणीय स्थलों की बात हो और डलहौजी का नाम न आए ऐसा हो नहीं सकता। देवभूमि में पर्यटन नगरी डलहौजी प्रकृति के अनगिनत नजारे संजोए है। तो आज चलेंगे इसके सफर पर

नई दिल्ली, स्टार सवेरा ।

ब्रिटिश शासनकाल में अस्तित्व में आई पर्यटन नगरी डलहौजी नैसर्गिक सौंदर्य के साथ-साथ ऐतिहासिक महत्व भी रखती है। हर साल देश-विदेश से हजारों की संख्या में सैलानी यहां आकर प्रकृति की गोद में सुकून के दिन गुजारते हैं।

दिलकश प्राकृतिक नजारों से लबरेज पर्यटन नगरी डलहौजी में स्थित ब्रिटिशकालीन बंगले व कोठियां, गिरजाघर, देवदार व चीड़ के पेड़ों वाले पहाड़, हरे-भरे मौदान, कलात्मक वस्तुओं की खरीदारी का मोह, फ्लावर वैली, यहां के सुंदर गांव व पहाड़ी लोगों के रहन सहन सहित वन्य प्राणी जीवन को निहारने की चाह, पहाड़ी क्षेत्रों के सीढ़ीनुमा खेत, ऊंचे-ऊंचे देवदार के पेड़ व चंबा के राजा द्वारा जंद्रीघाट नामक स्थान पर बनवाया गया महल। जहां की कई ऐतिहासिक वस्तुओं का संग्रह है,

बरबस ही पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है। हालांकि डलहौजी के जंद्रीघाट पैलेस राजघराने की निजी संपत्ति होने के कारण यहां पर जनमानस अंदर प्रवेश नहीं कर सकते हैं। कुल मिलाकर कहा जाए तो डलहौजी अपने अंदर संपूर्णता को सहेजे है। यहां आकर गर्मियों की छुट्टियां बिताना सबसे यादगार लम्हा बन जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *