चटनी या अचार, दोनों में कौन है हेल्‍दी

अचार और चटनी दोनों ही पारंपरिक भारतीय भोजन का अभिन्‍न अंग हैं। कुछ लोग इन्‍हें सेहत के लिए अच्‍छा नहीं मानते। आखिर क्‍या है सचाई।

नई दिल्ली, स्टार सवेरा ।

हम‍ हिंदुस्‍तानियों का काम बिना अचार या चटनी के चल नहीं पाता। जब तक खाने की थाली में अचार या चटनी न हो खाने का स्‍वाद ही नहीं आता। लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं जो अचार और चटनी से यह कह कर परहेज करते हैं कि ये सेहत के लिए अच्‍छे नहीं होते। आप भी इनमें तेल और नमक देखकर डर जाते हैं। पर असलियत है क्‍या आज हम आपको बताते हैं।

सिलेब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर का कहना है कि हम सभी को हर रोज कम से कम एक चम्‍मच अचार या चटनी जरूर खानी चाहिए। खासकर सॉस या डिप की जगह चटनी एक ज्‍यादा स्‍वस्‍थ विकल्‍प है।

अचार से बचने की जरूरत नहीं
क्‍या आप अचार में मौजूद तेल और नमक से बचते हैं। रुजुता कहती हैं कि इनसे बचने की जरूरत नहीं है। अचार फर्मेंटेशन से बनते हैं। जब आप इनमें तेल और नमक मिलाते हैं तो उनमें मौजूद अच्‍छे बैक्‍टीरिया को पनपने का मौका मिलता है। ये हमारी आंतों के लिए फायदेमंद हैं और बुरे या हानिकारक बैक्‍टीरिया को खत्‍म करते हैं। इनमें मौजूद नमक आपके पाचन को बेहतर बनाता है। आप चाहें तो साधारण नमक की जगह इनमें सेंधा नमक मिलाकर और स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक बना सकते हैं। इसी तरह इसमें मिलाए जाने वाला सरसों का तेल भी आपके लिए बहुतफायदेमंद है।

इसके अलावा अचार जिन सब्जियों से बनाया जाता है वे खुद विटमिन ए, बी12, सी, ऐंटीऑक्सिडेंट और फोलेट से भरपूर होते हैं। ये गैस, एनीमिया और पेट की गड़बड़ी में राहत देते हैं। इसलिए अचार सेहत के लिए खराब नहीं बल्कि फायदेमंद होते हैं।
चटनी के भी फायदे कम नहीं
चटनी कैलरी से भरपूर डिप्‍स और सॉस की तुलना में कई गुना बेहतर हैं। सबसे बड़ी बात कि ये ताजी चीजों से बनती हैं। इनमें लहसुन, अदरक, प्‍याज, धनिया जैसी ताजी जड़ों और पत्तियों का इस्‍तेमाल होता है। इनमें तेल या तो डाला ही नहीं जाता या बहुत कम डाल जाता है इसलिए ये लगभग फैट फ्री होती है।

ताजे होने की वजह से इनमें ऐंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो शरीर को तमाम बीमारियों से बचाते हैं। ये कच्‍ची चीजों से बनती हैं इसलिए इनमें मौजूद एंजाइम पाचन तंत्र को भी बेहतर बनाते हैं। इसलिए छोटे बच्‍चों के माता-पिता को चाहिए कि वे बच्‍चों को शुरू से ही चटनी खिलाने की आदत डालें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *