बड़ी खबर मुख्य समाचार राष्ट्रीय

पहाड़ों में बर्फबारी और मैदानों में बारिश से बढ़ी ठंड, जम्मू-कश्मीर में सैकड़ों गाड़ियां फंसी

उत्तराखंड के बदरीनाथ केदारनाथ गंगोत्री और यमुनोत्री के साथ ही पहाड़ों में हिमपात हुआ तो मैदानों में रुक-रुक कर बारिश का क्रम जारी है।

नई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर में लगातार दूसरे दिन की बारिश से पूरे इलाके में ठंड बढ़ गई है। तेज रफ्तार ठंडी हवा शीत लहर जैसा एहसास करा रही है। अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री गिरकर 22 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। जबकि न्यूनतम तापमान 16.2 डिग्री सेल्सियस रहा। पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता हल्की पड़ने के कारण शुक्रवार को बारिश होने की संभावना नहीं है। शुक्रवार को भी आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 24 और 15 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।
पहाड़ों पर हुई खूब हुई बर्फबारी

उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और कश्मीर में बुधवार से तल्ख मौसम के तेवर गुरुवार को भी नहीं बदले। इस दौरान उत्तराखंड के बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के साथ ही पहाड़ों में हिमपात हुआ तो मैदानों में रुक-रुक कर बारिश का क्रम जारी है। मसूरी के पास धनोल्टी और नागटिब्बा की पहाडि़यों पर मौसम का पहला हिमपात हुआ है। भारी हिमपात से उत्तरकाशी जिले में गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग बंद हो गया है।

वहीं, हिमाचल में चोटियों पर बर्फबारी व निचले क्षेत्रों में बारिश राहत के साथ दिक्कतें लेकर आई है। तापमान में गिरावट से प्रदेश में शीतलहर तेज हो गई है। बर्फबारी के कारण प्रदेश में कई सड़कों पर यातायात बाधित रहा। इस कारण कई पर्यटक व स्थानीय लोग परेशान हुए। किन्नौर जिले के कल्पा व लाहुल-स्पीति के केलंग में न्यूनतम तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस से नीचे चला गया है।

इसके अलावा कश्मीर में लगातार तीसरे दिन रुक-रुक कर हुई बर्फबारी और बारिश से जवाहर टनल के आसपास भूस्खलन के बाद बुधवार शाम से बंद हुआ जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग गुरुवार को भी बंद रहा। इसके चलते सैकड़ों गाडि़यां राष्ट्रीय राजमार्ग पर फंसी हुई हैं।
उप्र और हरियाणा में ओलावृष्टि से खेती को नुकसान

दो दिन से हो रही बारिश और ओलावृष्टि से जहां ठंड अचानक से बढ़ गई है। वहीं, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में फसलों को भी नुकसान हुआ है। मेरठ क्षेत्र में बुधवार रात झमाझम बारिश के बाद गुरुवार को भी रुक-रुककर बारिश का दौर जारी रहा। देहात क्षेत्र में ओलावृष्टि भी हुई। शुक्रवार को भी बारिश के आसार हैं। हालांकि इससे वायु प्रदूषण का प्रकोप भी कम हुआ है। वहीं, बिजली गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि चार गंभीर रूप से घायल हैं।

मेरठ क्षेत्र में गत दो दिनों से बारिश हो रही है। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार बारिश और ओलावृष्टि से सरसों की फसल को ज्याद नुकसान हुआ है। गेहूं की बुआई भी प्रभावित हुई है। वहीं, गन्ने की कटाई का काम भी रुक गया है। वहीं, हरियाणा में भी बारिश और ओलावृष्टि के चलते सरसों और गेहूं की फसल को नुकसान पहुंचा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *