पाक में कोरोना वैक्सीन फाइजर को मंजूरी, 12 साल के बच्चों को भी वैक्सीनेशन का प्लान

पाकिस्तान (Pakistan) में कोरोना वैक्सीन फाइजर (Pfizer) को आपातकाल इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है। अब यहां 12 साल के बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक की वैक्सीनेशन की योजना है।पाकिस्तान ने अभी तक 6 कोरोना वैक्सीन को इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है। इसमें चीन की तीन वैक्सीन- सीनोफार्म, कैन्सिनो और सीनोवैक है, रूस की स्पुतनिक वी व ब्रिटेन की एस्ट्राजेनेका के साथ अब फाइजर भी शामिल हो गया है।

पाकिस्तान में DRAP (Drug Regulatory Authority of Pakistan) ने सोमवार को फाइजर के कोरोना वैक्सीन के आपातकाल इस्तेमाल को मंजूरी दे दी। इसके बाद यहां के लोगों को इसकी खुराक मिल सकेगी। DRAP रजिस्ट्रेशन बोर्ड ने 12 साल की उम्र से अधिक के सभी लोगों को इस वैक्सीन की खुराक देने की अनुमति दी है। इसके बाद पाकिस्तान में बच्चों को मिलने वाली यह पहली वैक्सीन है ।

DRAP के अधिकारियों ने बताया, ‘ये वैक्सीन गर्भवती महिलाओं समेत कम इम्युनिटी वाले लोगों को भी दी जा सकेगी। इसके अलावा हज पर जाने वाले 40 साल से अधिक उम्र के श्रद्धालुओं को भी ये वैक्सीन दी जाएगी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की कोवैक्स फैसिलिटी के तहत 100,000 से अधिक फाइजर वैक्सीन की खुराक की खेप पाकिस्तान को मिली। कोवैक्स के जरिये सभी देशों को सामान रूप से कोरोना वैक्सीन सप्लाई की जा रही है। इसमें सभी वैक्सीन निर्माता कंपनियों की ओर से योगदान किया जा रहा है। इसके पहले पाकिस्तान को कोवैक्स के तहत एस्ट्राजेनेका की 12 लाख 38 हजार खुराकें मिल चुकी हैं।

उल्लेखनीय है कि भारत में पहली बार मिला कोरोना वायरस का वैरिएंट B.1.617.2 का पहला मामला पाकिस्तान में आया है। इसके पहले यहां ब्रिटेन व दक्षिण अफ्रीका के वायरस वैरिएंट से लोग जूझ रहे हैं।बीते शुक्रवार को पाकिस्‍तान में कोरोना वायरस के स्‍ट्रेन B.1.617.2 से संक्रमित होने के 5 मामलों की पुष्टि की गई। भारत में कोरोना वायरस के कहर के मद्देनजर पाकिस्‍तान में भारत से यात्रियों के आने पर प्रतिबंध है।