गंभीर बोले- 5 IPL जीत लिया और क्या करें रोहित शर्मा, हिन्दुस्तान का दुर्भाग्य है वो टीम इंडिया के कप्तान नहीं

इंडियन प्रीमियर लीग की फ्रेंचइजी टीम मुंबई इंडियंस को पांचवीं बार चैपियन बनाने के बाद अब उनको भारत का टी20 कप्तान बनाए जाने की मांग हो रही है। पूर्व भारतीय ओपनर गौतम गंभीर ने कहा कि विराट कोहली की जगह रोहित शर्मा को ही भारतीय क्रिकेट टीम के टी20 टीम का कप्तान होना चाहिए। उन्होंने कहा यह भारत का दुर्भाग्य है कि वह भारतीय टीम के कप्तान नहीं हैं।

मंगलवार 10 नवंबर को मुंबई की टीम ने रोहित की कप्तानी में लगातार दूसरी और कुल पांचवीं बार आइपीएल का खिताब जीता। फाइनल में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ रोहित ने शानदार अर्धशतकीय पारी खेली और टीम को जीत दिलाई। पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली ने 156 रन बनाए थे जवाब में मुंबई ने 5 विकेट के नुकसान पर 18.4 ओवर में जीत का लक्ष्य हासिल किया।

पूर्व भारतीय ओपनर गंभीर ने एक अंग्रेजी वेबसाइट से बात करते हुए कहा, देखिए अगर रोहित शर्मा हिन्दुस्तान के कप्तान नहीं बने तो यह हिन्दुस्तान का दुर्भाग्य है, रोहित शर्मा का नहीं क्योंकि कोई खिलाड़ी पांच बार आइपीएल की ट्रॉफी जीतता है। देखिए आप यह जरूर कह सकते हैं कि कप्तान उतना ही अच्छा होता है जितनी उसकी टीम होती है और यह बिल्कुल सही भी है लेकिन एक कप्तान को जज करने का क्या पैमाना है। कौन अच्छा कप्तान है और कौन अच्छा कप्तान नहीं है।

मतलब आपको कहीं ना कहीं तो पैमाना एक समान रखना पड़ेगा। इससे पहले हम कहते थे एमएस धौनी हिन्दुस्तान के सबसे अच्छे कप्तान हैं। वो क्यों सबसे सफल कप्तान हैं क्योंकि उन्होंने दो विश्व कप जीते हैं और 3 आइपीएल भी। रोहित शर्मा आइपीएल के सबसे सफल कप्तान हैं क्योंकि 5 आइपीएल जीते हुए हैं। अगर आगे जाकर उनको टी20 की कप्तानी नहीं मिलती तो यह बेहद शर्मनाक होगा। क्योंकि इससे ज्यादा रोहित शर्मा कुछ भी नहीं कर सकते हैं। वो सिर्फ जिस टीम की कप्तानी कर रहे उसको जिता ही सकते हैं।

जैसा की मैंने कहा, अगर रोहित आगे जाकर नियमित तौर पर भारतीय टीम के कप्तान नहीं बनते तो यह भारतीय टीम का दुर्भाग्य होगा। दो अलग फॉर्मेट के लिए अलग कप्तान रखने में कोई खराबी नहीं है क्योकि रोहित शर्मा ने दिखाया है। कितना फर्क है लिमिटेड ओवर की कप्तानी में रोहित शर्मा और विराट कोहली में। एक खिलाड़ी पांच बार आइपीएल जीते और दूसरा अब तक एक भी आइपीएल नहीं जीता।

मैं इसलिए नहीं कह रहा कि विराट कोहली कोई खराब कप्तान है लेकिन विराट को भी वही मंच मिला है जो रोहित को मिला तो दोनों खिलाड़ियों एक ही मंच से जज करेंगे। दोनों ने आइपीएल में उतनी ही लंबी कप्तानी की है। तो इसलिए मुझे लगता है कि रोहित एक कप्तान के तौर पर सामने आए हैं।