Arjun Rampal At NCB Office: ड्रग्स केस में पूछताछ के लिए एनसीबी दफ़्तर पहुंचे अर्जुन रामपाल

Arjun Rampal At NCB Office बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के निधन की जांच के दौरान ड्रग्स एंगल सामने आया था जिसके बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने जांच शुरू की थी और अब तक कई सेलेब्रिटीज़ जांच की ज़द में आ चुके हैं।

नई दिल्ली, जेएनएन। ड्रग्स केस में पूछताछ के लिए बॉलीवुड एक्टर अर्जुन रामपाल शुक्रवार को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के मुंबई दफ़्तर पहुंचे। इससे पहले उनकी गर्लफ्रेंड और लिव-इन पार्टनर गैब्रिएला डिमिट्रियाडेस के एनसीबी लगातार दो दिन पूछताछ कर चुकी है।

एनसीबी टीम ने सोमवार को अर्जुन रामपाल के घर छापा मारा था। टीम ने अर्जुन के कुछ इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स अपने क़ब्ज़े में लिये थे और उन्हें पूछताछ के लिए समन जारी किया था। एनसीबी ने उनकी गर्लफ्रेंड गैब्रिएला को भी तलब किया था। इसी सिलसिले में गैब्रिएला से एनसीबी ने बुधवार और गुरुवार को पूछताछ की थी। अब शुक्रवार को अर्जुन सुबह लगभग 11 बजे एनसीबी दफ़्तर पहुंचे। बता दें, गैब्रिएला के भाई एजिसिलाओस डिमिट्रियाडेस पहले ही एनसीबी के रडार पर हैं। एक ड्रग पैडलर की गिरफ़्तारी के बाद एजिसिलाओस को एनसीबी ने बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के निधन की जांच के दौरान ड्रग्स एंगल सामने आया था, जिसके बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने जांच शुरू की थी और अब तक कई सेलेब्रिटीज़ जांच की ज़द में आ चुके हैं। विभिन्न ड्रग पैडलर्स की गिरफ़्तारी के बाद जैसे-जैसे नाम उछले, एनसीबी ने उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया। दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, रकुलप्रीत और सारा अली ख़ान से भी पूछताछ की जा चुकी है। फ़िल्म प्रोड्यूर फ़िरोज़ नाडियाडवाला के घर 8 नवम्बर को एनसीबी ने छापा मारा था और उनकी पत्नी शबाना सईद को गिरफ़्तार किया था। हालांकि, उन्हें ज़मानत मिल चुकी है।

एनसीबी ने इस मामले में सबसे पहले रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती को पकड़ा था। बॉम्बे हाई कोर्ट से ज़मानत मिलने से पहले रिया को लगभग एक महीने जेल में रहना पड़ा था। हालांकि, शौविक अभी भी जेल में हैं।

सुशांत सिंह राजपूत का मृत शरीर 14 जून को बांद्रा स्थित उनके आवास पर मिला था, जिसकी जांच सीबीआई कर रही है। रिया चक्रवर्ती इस केस की मुख्यारोपी हैं। सुशांत के फैंस, परिवार और दोस्तों को अब सीबीआई जांच की रिपोर्ट का इंतज़ार है।

पिछले महीने गिरफ़्तार किया था। हालांकि, एनडीपीएस कोर्ट से उन्हें सशर्त ज़मानत मिल गयी थी।