वर्कआउट की इस टेक्निक से पाएं स्लिम बॉडी और बढ़ाएं स्ट्रेंथ के साथ सेल्फ कॉन्फिडेंस भी

बॉडी को स्लिम, फिट, एक्टिव रखने के साथ उसकी फ्लैक्सिबिलिटी और स्ट्रेंथ बढ़ाने के लिए आजकल वर्कआउट के कई सारे तरीके आ चुके हैं। सबसे अच्छी बात कि इन वर्कआउट्स को मेल-फीमेल दोनों ही कर सकते हैं। तो ऐसा ही एक वर्कआउट है रोप क्लाइंबिंग। जो ओवरऑल बॉडी पर वर्क करता है।

आपकी बैक को करे मजबूत

बैक की स्ट्रेंथ बढ़ाने के लिए भी इस एक्सरसाइज को काफी फायदेमंद माना जाता है। यह बैक की मसल्स में भी स्ट्रेंथ लाती है। साथ ही, रीढ़ की हड्डी और बॉडी पॉश्चर को भी ठीक रखने में मदद करती है। जब आप रोप क्लाइंबिंग करते हैं, तो आपकी बैक की मसल्स में भी स्ट्रेस आता है। इसे रोज करने से बैक की शेप बदलने लगती है। जिम में बैक एक्सरसाइज करने की जगह आप इसे भी कर सकते हैं।

सेल्फ कॉन्फिडेंस भी बढ़ेगा

अगर आपमें सेल्फ-कॉन्फिडेंस की कमी है, तो यह एक्सरसाइज आपका कॉन्फिडेंस बढ़ा सकती है। अगर आप कुछ दिनों तक इसे रेग्युलर्ली करें, तो इससे आपमें मुश्किल काम करने के लिए कॉन्फिडेंस पैदा होता है और आप चैलेंजेस से घबराते नहीं है।

स्ट्रेंथ बढ़ाने में मिलेगी मदद

हाथ, पैर, शोल्डर्स, कमर मतलब पूरी बॉडी की स्ट्रेंथ बढ़ाने के लिए रोप क्लाइंबिंग वर्कआउट है एकदम बेस्ट। क्योंकि इसमें आपकी पूरी बॉडी मूव होती है। फंक्शनल ट्रेनिंग एक्सरसाइज कही जाने वाली रोप क्लाइंबिंग से बॉडी के हर हिस्से की स्ट्रेंथ को बढ़ा सकते हैं। फिजिकल स्ट्रेंथ के साथ यह मेंटल हेल्थ को भी बढ़ाती है।

बॉडी को बनाती है स्लिम

जैसा कि हमने बताया कि यह एक्सरसाइज पूरी बॉडी के लिए फायदेमंद है, लेकिन बॉडी के ऊपरी हिस्से को टोंड और स्लिम बनाने के लिए खासतौर से इस एक्सरसाइज़ को सजेक्ट किया जाता है। दूसरी एक्सरसाइजेस की तुलना में इससे कम समय में ज्यादा कैलोरीज़ बर्न कर सकते हैं, जिससे वजन घटाने में भी आसानी होती है। बॉडी के ऊपरी हिस्से पर ज्यादा प्रेशर पड़ने से स्लिम होने में मदद मिलती है।