Coronavirus: ब्लैक फंगस के बाद, अब सामने आए ‘बोन डेथ’ के मामले, जानें इसके बारे में सबकुछ

What Is Bone Death: एक तरफ कोरोना वायरस की दूसरी लहर भारत में कहर बरपा चुकी है, वहीं, दूसरी तरफ कोविड रिकवरी के बाद हो रहे कॉम्प्लीकेशन्स में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। म्यूकॉरमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस, नई डायबिटीज़, ब्लड क्लॉट्स, दिल, फेफड़ों और पल्मनरी से जुड़ी दिक्कतें और साथ ही लंबे समय तक कोविड के लक्षणों का रहना देश भर में चिंता का विषय बन गया है।

अब डॉक्टर्स के सामने कोविड रिकवरी से जुड़ी ‘बोन डेथ’ नाम की नई जानलेवा मुसीबत आ गई है। रिपोर्ट्स के अनुसार, मुंबई के अस्पतालों के डॉक्टरों ने देखा है कि एवस्कुलर नेक्रोसिस (AVN) के कुछ मामले, जिन्हें आमतौर पर बोन डेथ के रूप में भी जाना जाता है, कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीज़ों में देखा जा रहा है।

हालांकि, इस वक्त एक्सपर्ट्स इस मामले को लगातार स्टडी कर रहे हैं, लेकिन अभी तक इसे कोविड के बाद होने वाली गंभीर बीमारी माना जा रहा है, जो चिंता का विषय भी है।

अभी तक हम ‘बोन डेथ’ के बारे में क्या जानते हैं?

डॉक्टरों का दावा है कि एवस्कुलर नेक्रोसिस, AVN इस वक्त उन रोगियों में देखा जा रहा है, जो कुछ महीनों पहले ही कोरोना वायरस से ठीक हुए हैं, और इसलिए, इसका एक क्लासिक पोस्ट-कोविड-जटिलता होने का अनुमान लगाया गया है। इस नए स्वास्थ्य मुद्दे के अब तक कम से कम तीन मामले सामने आए हैं। इन सभी रोगियों की उम्र 40 वर्ष से कम थी, और ये सभी डॉक्टर थे, जिनकी फेम्युर हड्डी में गंभीर दर्द दर्ज होने के बाद, बोन डेथ का निदान किया गया था और इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया गया।

बोन डेथ के ये सबसे पहले मामले हैं जो सामने आए, डॉक्टर अब चिंतित हैं कि यह देखने के लिए यह नए पोस्ट-कोविड बीमारी कितना गंभीर रूप ले सकती है। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल (बीएमजे) में प्रकाशित एक शोध में अब एवस्कुलर नेक्रोसिस को लंबे समय तक रहने वाले कोविड के लक्षण के रूप में उजागर किया गया है।

क्या है ‘बोन डेथ’?

एवस्कुलर नेक्रोसिस को हड्डी के ऊतकों की मृत्यु के रूप में भी जाना जाता है, यह एक ऐसा रोग है जो हड्डी तक पर्याप्त खून न पहुंचने की वजह से होता है, जो आमतौर पर फीमर या कूल्हे की हड्डी में होता है। खून की आपूर्ति न होने के कारण हड्डी के ऊतक मर जाते हैं और ढह जाते हैं, जिससे नेक्रोसिस हो जाता है। हाल ही में सामने आए मामले कूल्हे की हड्डी के थे लेकिन नेक्रोसिस शरीर की किसी भी हड्डी में हो सकता है। इस बीमारी के शुरुआती स्टेज में किसी तरह के लक्षण नज़र नहीं आते हैं, लेकिन जब व्यक्ति प्रभावित जोड़ पर भार डालता है, तो गंभीर दर्द हो सकता है।

एवस्कुलर नेक्रोसिस एक गंभीर स्थिति हो सकती है, क्योंकि इसमें हड्डी ठीक से काम नहीं कर पाती, जिसका असर जोड़ों पर पड़ता है।

कोविड-19 और ‘बोन डेथ’ में क्या रिश्ता है?

इस वक्त एक्सपर्ट्स कोविड-19 रिकवरी के बाद लंबे समय तक होने वाले कई कॉम्प्लीकेशन्स पर स्टडी कर रहे हैं, जिसमें ‘बोन डेथ’ भी शामिल है।

हालांकि, एक स्पष्ट लिंक जो एक संभावित प्रेरक कारक के रूप में उभरा है, वह है स्टेरॉयड का अत्यधिक उपयोग। स्टेरॉयड का उपयोग कोविड केयर ट्रीटमेंट के हिस्से के रूप में किया गया है और लंबे समय से इस पर बहस भी चल रही है। इससे पहले स्टेरॉयड के अत्यधिक उपयोग की वजह से लोगों में ब्लैक फंगस के मामले भी बढ़ते दिखे थे।

कैसे होता है ‘बोन डेथ’ का इलाज?

ज़्यादातर बीमारियों की तरह, ‘बोन डेथ’ में भी जितना जल्दी निदान होगा, उतना ही इलाज से फायदा मिलेगा। अभी तक मिले सभी मामलो का निदान समय रहते हो गया है। इसके इलाज में फिज़ियोथेरपी, ब्लड थिनर, दर्द से राहत के लिए गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाएं, व्यायाम और थेरेपी की जाती हैं। कई बार, हड्डी की क्षतिग्रस्त आंतरिक परत और कोर डीकंप्रेसन को हटाने के लिए सर्जरी की भी ज़रूरत पड़ती है।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।