गौतम अदाणी ने कहा, दो दशकों में 15 ट्रिलियन डॉलर की होगी देश की इकोनॉमी

अरबपति कारोबारी गौतम अदाणी ने अगले दो दशकों में देश की इकोनॉमी के 15 लाख करोड़ डॉलर का आकार हासिल कर लेने का भरोसा जताया है। अदाणी ग्रुप की सालाना आमसभा (एजीएम) में सोमवार को शेयरधारकों को संबोधित करते हुए चेयरमैन गौतम अदाणी ने कहा कि अगले चार वर्षो में देश की इकोनॉमी के पांच लाख करोड़ डॉलर का आकार लेने की क्षमता पर सवाल उठाए जा रहे हैं। लेकिन मुझे व्यक्तिगत तौर पर लगता है देश यह लक्ष्य आसानी से हासिल कर लेगा और दो दशकों में उससे भी तीन गुना बड़ी इकोनॉमी होगा।

अदाणी का कहना था कि विकास की राह में समय-समय पर दिक्कतें पहले भी आती रही हैं और आती रहेंगी। लेकिन इस पर कोई शक नहीं कि सबसे बड़े मध्यम वर्ग, कामकाजी आयुवर्ग की बढ़ती संख्या और उपभोक्ता वर्ग का देश के विकास पर सीधा सकारात्मक असर दिखेगा। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट ने देश और दुनिया को बड़े सबक दिए हैं, जो इसे भविष्य के लिए अधिक बुद्धिमान बनाएंगे। उन्होंने यह भी कहा कि कुछ गलतफहमियों की वजह से पिछले महीने कंपनी के छोटे व खुदरा शेयरधारकों को परेशानी हुई। लेकिन ग्रुप ऐसी दिक्कतों से मजबूती के साथ उबरता रहेगा।

महामारी से पहले भारतीय अर्थव्यवस्था 2,890 अरब डॉलर थी। महामारी की वजह से कुल अर्थव्यवस्था को सात प्रतिशत से अधिक का नुकसान हुआ है।

उन्होंने कहा कि उपभोग तथा बाजार पूंजीकरण के आधार पर भारत दुनिया के सबसे बड़े बाजारों में से होगा। उन्होंने कहा कि इतिहास ने दिखाया है कि प्रत्येक महामारी संकट से सबक सीखने को मिलते हैं। भारत और दुनिया कोविड-19 संकट के बीच अधिक समझ दिखा रहे हैं।