अफगानिस्तान सरकार ने पाकिस्‍तान से अपने राजदूत और वरिष्ठ राजनयिकों को वापस बुलाया

अफगानिस्तान के राजदूत नजीबुल्लाह अलीखील की बेटी सिलसिला अलीखिल का पाकिस्तान के इस्लामाबाद में हुए कथित अपहरण और प्रताड़ना के बाद अफगानिस्तान ने एक बड़ा फैसला लेते हुए इस्लामाबाद से अपने राजदूत और अन्य वरिष्ठ राजनयिकों को वापस अपने देश बुलाया है। अफगानिस्तान के इस फैसले को पाकिस्तान ने‌ ‘दुर्भाग्यपूर्ण और खेदजनक’ करार दिया है। वहीं काबुल से उठाए इस कदम पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया।

पाकिस्तान ने दिया मामले का स्पष्टीकरण

अफगानी राजदूत की बेटी को प्रताड़ित करने के इस पूरे मामले पर पाकिस्तान ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा है कि अपरहण के पूरे मामले की जांच संजीदगी से की जा रही है। और पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान के निर्देश का उच्चतम स्तर पर पालन किया जा रहा है। पाक के आंतरिक मंत्री शेख राशिद ने निजी टीवी चैनल एक न्यूज चैनल को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि राजदूत की बेटी का अपहरण नहीं किया गया था और राशिद ने आरोप लगाया कि पूरा प्रकरण पाकिस्तान को ‘बदनाम’ करने के लिए एक ‘अंतर्राष्ट्रीय रैकेट’ का परिणाम था।

हालांकि शेख राशिद ने इससे पूर्व 1 दिन पहले खुद दावा किया था कि पाकिस्तान अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार करने के करीब है। मंत्री ने कहा था, ‘यह सर्वोच्च प्राथमिकता वाला मामला है क्योंकि प्रधानमंत्री ने इसे सुलझाने और दोषियों को गिरफ्तार करने का निर्देश दिया है।’

अफगानी राजदूत की बेटी का अपरहण और प्रताड़ना का पूरा मामला

पाकिस्तान में अफगानी राजदूत नजीबुल्लाह अलीखिल की 26 वर्षीय बेटी सिलसिला अलीखिल का बीते शुक्रवार को अज्ञात लोगों ने कथित तौर पर अपहरण कर उसे प्रताड़ित और मारपीट की। बता दें कि इस घटना को अंजाम किराए के वाहन की सवारी से दिया गया।

वाहन से ही सिलसिला अलीखिल को अगवा कर लिया गया और रिहा करने से पहले उसे यातनाएं दी गई। जिसके बाद वह राजधानी के एफ-9 पार्क इलाके के पास मिली थी, जिसके शरीर पर मारपीट और प्रताड़ना के निशान पाए गए। पुलिस को दिए गए एक बयान में अफगानी राजदूत की बेटी कहा कि ‘वह एक उपहार खरीदने गई थी और एक टैक्सी किराए पर ली थी। वापस आते समय, चालक ने पांच मिनट की ड्राइव के बाद सड़क किनारे खींच लिया और एक अन्य व्यक्ति ने उसे रोक लिया, जिसने पहले उस पर चिल्लाया और फिर उसे पीटना शुरू कर दिया।’ आगे बताते हुए ने कहा कि ‘क्योंकि मैं डरी हुई थी, इसलिए मैं बेहोश महसूस कर रही थी,’ इसके बाद सिलसिला अलीखिल ने बताया कि जब उसे होश आया तो उसने खुद को गंदगी से भरी जगह पर पाई। जिसके बाद उसने पास के एक पार्क में जाने के लिए एक टैक्सी ली, जहाँ से उसने अपने पिता के सहयोगी को बुलाया, जो उसे घर ले आए। फिलहाल सिलसिला अलीखिल द्वारा दिए गए इस पूरे बयान को पाकिस्तानी मीडिया में प्रसारित भी किया गया।

अफगानिस्तान के फैसले पर पाकिस्तान का आग्रह

इस पूरे मामले के बाद अफगानिस्तान सरकार ने पाकिस्तान से अपने राजदूत और वरिष्ठ राजनयिकों को वापस बुलाया है। जिस पर विदेश कार्यालय ने कहा है कि ,’अफगानिस्तान सरकार द्वारा पाकिस्तान से अपने राजदूत और वरिष्ठ राजनयिकों को वापस बुलाने का निर्णय दुर्भाग्यपूर्ण और खेदजनक है।’

साथ ही विदेश कार्यालय ने कहा कि ‘राजदूत और उनके परिवार और पाकिस्तान में अफगानिस्तान के दूतावास और वाणिज्य दूतावास के कर्मियों की सुरक्षा और बढ़ा दी गई है।’

पाकिस्तान के विदेश सचिव ने रविवार को अफगान राजदूत से मुलाकात की और राजनयिकों की सुरक्षा के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों पर प्रकाश डाला और उन्हें पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया। बयान में कहा गया, ‘हमें उम्मीद है कि अफगानिस्तान सरकार अपने फैसले पर पुनर्विचार करेगी।’ साथ ही पाकिस्तान ने अफगानिस्तान सरकार द्वारा लिए गए इस फैसले को वापस लेने का भी आग्रह किया।