असम-मिजोरम विवादित स्थल पर स्थिति सामान्य करने को लेकर सीआरपीएफ के डीजी करेंगे उच्च स्तरीय बैठक

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) असम-मिजोरम विवादित स्थल पर स्थिति को सामान्य करने में जुटी हुई है। सोमवार शाम घटना स्थल पर असम पुलिस के छह जवानों की गोलीबारी में मौत हो गई थी। समाचार एजेंसी एएनआइ ने सूत्रों के हवाले से कहा कि सीआरपीएफ के महानिदेशक (डीजी) कुलदीप सिंह वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मंगलवार को एक आंतरिक बैठक की अध्यक्षता करेंगे, ताकि विवादित स्थल पर शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने की रणनीति तैयार की जा सके। सूत्र ने बताया कि सीआरपीएफ मुख्यालय में शुरू होने वाली डेढ़ घंटे की बैठक में इस मुद्दे पर विस्तार से चर्चा की जाएगी।

एडीजी एसएन ओझा ने समाचार एजेंसी एएनआइ को बताया कि घटनास्थल पर स्थिति को सामान्य किया जा रहा है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के त्वरित हस्तक्षेप और सीआरपीएफ की समय पर कार्रवाई के बाद असम और मिजोरम पुलिस बलों द्वारा सोमवार को सीमा पर एक विवाद के बाद एक-दूसरे पर गोलियां चलाने के बाद एक बड़ा विवाद टल गया। हालांकि, उस समय तक दोनों राज्यों के पुलिस बलों के बीच भीषण मुठभेड़ में असम के छह पुलिसकर्मियों की जान चली गई थी। यह घटना सोमवार को शाम 4 बजे से 4.30 बजे के बीच थी।

ओझा ने कहा कि मिजोरम पुलिस ऊंचाई पर थी और असम पुलिस मैदान में थी। मामले में अचानक हिंसा शुरू हो गई और आंसू गैस के गोले दागने के बाद दोनों ओर से स्वचालित हथियारों से गोलीबारी शुरू हो गई, जिसमें असम के छह पुलिसकर्मियों की मौत हो गई।

हमारी सीआरपीएफ कंपनियों ने डीआईजी सिलचर शाहनवाज को घटना के बारे में सूचित किया, जो वरिष्ठ पदानुक्रम के माध्यम से डीजी सीआरपीएफ से संपर्क किया, ओझा ने आगे कहा कि डीजी सीआरपीएफ ने गृह सचिव (अजय भल्ला) को एक विस्तृत ब्रीफिंग दी और बाद में गृह मंत्री को मामले से अवगत कराया गया था।

ओझा ने कहा कि सीआरपीएफ को स्थिति पर नियंत्रण करने के लिए निर्देशित किया गया था और साथ ही गृह मंत्री ने असम और मिजोरम दोनों के मुख्यमंत्रियों के साथ बात की जो अपने पुलिस बलों को साइट से वापस करने के लिए सहमत हुए थे।