कोरोना के बढ़ते मामलों और त्योहारों के मद्देनजर केरल में आज से कोरोना की सख्त पाबंदियां, कई जगह लॉकडाउन

कोरोना के मामलों में वृद्धि और त्योहारों के मद्देनजर केरल ने आज से कोरोना की पाबंदियों को और ज्यादा सख्त करने का फैसला किया है। केरल ने बुधवार से नए दिशानिर्देशों को लागू करने और पंचायतों या शहरी वार्डों में विशेष कड़े लॉकडाउन प्रतिबंध लागू करने का फैसला किया है। इन इलाकों में कोरोना का पॉजिटिविटी रेट 8 फीसद से अधिक है। केरल सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि 60 साल से अधिक उम्र के सभी वरिष्ठ नागरिक जिन्हें कोरोना वैक्सीन की पहली डोज नहीं मिली है उन्हें 15 अगस्त से पहले टीका लगाया जाएगा।

सरकार ने कहा है कि 18 साल से अधिक उम्र के सभी कोरोना मरीजों की पहचान कर 15 अगस्त तक उनका टीकाकरण किया जाएगा। टीकाकरण की योजना बनाने के लिए जिला कलेक्टर स्वास्थ्य विभाग के साथ समन्वय स्थापित करेंगे।

मुहर्रम, ओणम, जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी और दुर्गा पूजा जैसे आगामी त्योहारों के मद्देनजर केरल सरकार ने कहा कि सभी व्यक्तियों को कुछ आवश्यक गतिविधियों को करने की अनुमति है। सरकार की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि यह स्पष्ट किया जाता है कि जिन लोगों को अभी तक कोरोना वैक्सीन नहीं मिली है या वे दवा एलर्जी या अन्य बीमारियों के कारण वैक्सीन नहीं ले सकते हैं वे किराने, दूध, मांस सहित खाद्य पदार्थों की खरीद जैसी आवश्यक गतिविधियों के लिए अपने घरों से बाहर जा सकते हैं।

कोरोना के 21 हजार से ज्यादा नए मामले आए

केरल में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 21,119 नये मामले सामने आये। जिसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 35,86,693 हो गई। केरल में कोरोना की संक्रमण दर 16 फीसदी के करीब पहुंच गयी है। सरकार की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गयी है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि पिछले एक दिन में महामारी से 152 लोगों की मौत हो गई है, जिसके साथ ही प्रदेश में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 18,004 हो गई है।

केरल और पूर्वोत्‍तर में देश में कोरोना के केस बढ़ने और पॉजिटिविटी की दर 10 से अधिक पाई गई। केरल के कुछ जिलों ने पॉजिटिविटी रेट की बढ़ती प्रवृत्ति का संकेत दिया है। इनमें मलप्पुरम, कोझीकोड, पठानमथिट्टा शामिल हैं। केरल में कोरोना के हालात को देखते हुए केंद्र से आई टीम ने ‘टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट’ रणनीति को कैसे लागू किया जा रहा है, इसकी पड़ताल भी की है।

20 अगस्त तक केस बढ़ने की संभावना

केरल के आठ जिलों का दौरा कर चुकी छह सदस्यीय एक केंद्रीय टीम ने कहा है कि एक अगस्त से 20 अगस्त तक राज्य में कोरोना संक्रमण के करीब 4.6 लाख मामले सामने आ सकते हैं।केंद्रीय टीम का नेतृत्व करने वाले राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) के निदेशक डा. सुजीत सिंह ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि ओणम का त्योहार (20 अगस्त) नजदीक आने के साथ पाबंदियां हटाने की गतिविधियों और पर्यटन स्थलों को खोलने से चुनौतिपूर्ण स्थिति पैदा हो गई है जो चिंता का विषय है।

केंद्र ने मंगलवार को कहा कि देश में पिछले सात दिनों में सामने आए कोरोना के आधे से अधिक मामले केरल से हैं। सिंह ने कहा कि इस दक्षिणी राज्य में टीके की दोनों डोज के बाद भी अधिक संख्या में दोबारा संक्रमण के मामले मिले हैं और इस विषय की जांच की जा रही है।