इमरान खान बोले- अशरफ गनी के राष्ट्रपति बने रहने तक तालिबान अफगान सरकार से बात नहीं करेगा

अफगान बलों और तालिबान के बीच बड़े पैमाने पर लड़ाई के बीच, पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने कहा है कि जब तक अशरफ गनी देश(अफगानिस्तान) के राष्ट्रपति बने रहेंगे, तब तक आतंकवादी समूह अफगानिस्तान सरकार से बात नहीं करेगा। इस्लामाबाद में विदेशी पत्रकारों से बात करते हुए इमरान खान ने कहा कि मौजूदा हालात में राजनीतिक समझौता मुश्किल दिख रहा है।

पाकिस्तान के द न्यूज इंटरनेशनल ने इमरान खान के हवाले से कहा, ‘मैंने तीन से चार महीने पहले तालिबान को मनाने की कोशिश की थी, जब वे यहां आए थे।’ इमरान ने आगे कहा, ‘ लेकिन शर्त रखी कि जब तक अशरफ गनी है, हम (तालिबान) अफगान सरकार से बात नहीं करने जा रहे हैं।’

अफगान सरकार क्षेत्र में अस्थिरता बढ़ाने के लिए इस्लामाबाद की आलोचना करती रही है क्योंकि काबुल का मानना है कि पाकिस्तान अफगानिस्तान में हिंसा को बढ़ाने में तालिबान की सहायता करता है। हाल ही में अफगानिस्तान के लोगों ने देश के बिगड़ते हालात के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराते हुए सोशल मीडिया पर एक अभियान शुरू किया था।

वहीं, राष्ट्रपति अशरफ गनी ने नए चीफ आफ आर्मी स्टाफ की नियुक्ति की है। तालिबान, अफगानिस्तान के कई प्रमुख क्षेत्रों पर तेजी से कब्जा कर रहा है। इस बीच बुधवार को राष्ट्रपति अशरफ गनी ने तालिबान को करारा जवाब देने के प्रयास में नया चीफ आफ आर्मी स्टाफ नियुक्त किया है। हैबतुल्लाह अलीजई ने वली मोहम्मद अहमदजई की जगह नए चीफ आफ आर्मी स्टाफ की कमान संभाली है।

तालिबान द्वारा देश में बढ़ती हिंसा के कारण, स्थिति बुरी तरह बिगड़ रही है क्योंकि आतंकवादी समूह सरकार से कई क्षेत्रों पर कब्जा करने के बाद लोगों को लूट रहा है और नागरिकों को मार रहा है।

पिछले साल फरवरी में वाशिंगटन और तालिबान के बीच शांति समझौते पर हस्ताक्षर के बाद अमेरिकी सेना द्वारा बड़ी संख्या में अफगानिस्तान से वापस आना शुरू करने के तुरंत बाद तालिबान ने अफगान बलों के खिलाफ अपना आक्रमण तेज कर दिया।