इमरान सरकार के निमंत्रण पर पाकिस्‍तान जाएंगे तालिबान के विदेश मंत्री मुत्‍ताकी, एजेंडा तय नहीं

पाकिस्‍तान के निमंत्रण पर जल्‍द ही अफगानिस्‍तान की तालिबान सरकार के कार्यवाहक विदेश मंत्री पाकिस्‍तान के दौरे पर जाएंगे। हालांकि ये साफ नहीं हुआ है कि अफगानिस्‍तान के विदेश मंत्री आमिर खान मुत्‍ताकी का ये दौरा कब होगा। फिलहाल उनके इस दौरे के एजेंडा का भी खुलासा नहीं हुआ है। स्‍पूतनिक ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि तालिबान सरकार के कार्यवाहक विदेश मंत्री ने पाकिस्‍तान का निमंत्रण स्‍वीकार कर लिया है। आपको बता दें कि ये पहला मौका है कि जब किसी देश ने तालिबान सरकार के किसी मंत्री को आधिकारित तौर पर अपने यहां पर आने का निमंत्रण दिया है।

रूसी समाचार एजेंसी के मुताबिक अफगानिस्‍तान में तालिबान सरकार के बनने अक्‍टूबर के अंत में पाकिस्‍तान स्थित अफगान एंबेसी के लिए अंतरिम प्रमुख की नियुक्ति की थी। अफगानिस्‍तान में तालिबान के कब्‍जे और यहां पर उसकी सरकार गठन के बाद पाकिस्‍तान ने मानवीय आधार पर अफगानिस्‍तान में मदद पहुंचाई है। इसमें खाने-पीने का सामान और दवाएं भी शामिल हैं। तालिबान ने 15 अगस्‍त 2021 को काबुल पर कब्‍जा किया था। काबुल पर कब्‍जे के एक माह बाद तालिबान ने यहां पर अपनी सरकार का गठन किया था।

आपको यहां पर ये भी बता दें कि अक्‍टूबर में ही पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अफगानिस्‍तान का दौरा किया था और तालिबान सरकार के मंत्रियों से मुलाकात की थी। इसी दौरान कुरैशी ने अफगानिस्‍तान की नई सरकार मानवीय आधार पर 218 मिलियन डाल की मदद देने का वादा किया था। उनका कहना था कि अफगानिस्‍तानम में हालात बेहद खराब हैं। इसलिए पाकिस्‍तान हर संभव मदद को तैयार है।

स्‍पूतनिक के मुताबिक पाकिस्‍तान ने तालिबान सरकार के साथ संबंधों को मजबूत करने के लिए न सिर्फ अफगानिस्‍तान के लिए अपनी विमान सेवा शुरू की बल्कि दोनों देशों के बीच कारोबार को बढ़ाने के लिए भी कदम उठाए। पाकिस्‍तान लगातार इस बात की भी अपील कर रहा है कि विश्‍व को तलिबान से बेहतर संबंध बनाने चाहिए।