Kisan Andolan: सिंघु बार्डर पर अहम बैठक आज, SKM ले सकता है लोगों की परेशानी बढ़ाने वाला फैसला

तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को पूरी तरह से वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली-उत्तर प्रदेश और दिल्ली-हरियाणा बार्डर जारी धरना प्रदर्शन आने वाले दिनों में तेज भी हो सकता है। दरअसल, संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha ) के नेतृत्व में दिल्ली-एसीआर के चारों बार्डर (सिंघु, शहाजहांपुर, टीकरी और गाजीपुर) पर चल रहे किसान आंदोलन को आगामी 26 नवंबर को एक साल पूरे हो जाएंगे। ऐसे में SKM इस मौके पर भारत बंद समेत कई ऐसे फैसले ले सकता है, जिससे लोगों की परेशानी भी बढ़ सकती है। इस बाबत सोनीपत के सिंघू बार्डर (कुंडली बार्डर) पर मंगलवार दोपहर दो बजे संयुक्त किसान मोर्चा की एक बैठक होगी। इस बैठक में दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन को एक साल पूरे होने पर धरना प्रदर्शन से जुड़े फैसले लिए जाएंगे।

लिया जा सकता है भारत बंद जैसा फैसला

दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बार्डर पर मंगलवार को होने वाली संयुक्त किसान मोर्चा की इस अहम बैठक पर दिल्ली के साथ उत्तर प्रदेश और हरियाणा के लोगों की नजरें हैं, जो एनसीआर के जिलों में रहते हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि आंदोलन के एक साल पूरा होने पर संयुक्त किसान मोर्चा आगामी 26 नवंबर को भारत बंद का भी फैसला ले सकता है। अगर ऐसा हुआ तो दिल्ली-एनसीआर समेत देशभर के लोगों को एक बार फिर हल्की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। खासकर दिल्ली-एनसीआर के लाखों लोगों को आवागमन में खासी दिक्कत आ सकती है।

दिल्ली-एनसीआर बार्डर पर किसानों की संख्या में इजाफा

दिल्ली-एनसीआर के चारों बार्डर पर धरनारत प्रदर्शनकारियों की संख्या में धीरे-धीरे इजाफा हो रहा है। यह इजाफा न केवल टीकरी, बल्कि सिंघु और गाजीपुर बार्डर पर भी देखा जा रहा है। बताया जा रहा है कि संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से किसान आंदोलन के एक साल पूरा होने पर प्रदर्शन स्थलों पर किसानों की संख्या बढ़ाने के लिए कहा गया है।