पीएम नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ देखी भव्य गंगा आरती, काशी के घाटों पर मनाया गया शिव दीपोत्सव

नरेंद्र मोदी सोमवार को दिन में नव्य और भव्य श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण करने के बाद गंगा आरती का भी दर्शन किया। वह जलयान से जलयान से वह दशाश्वमेध घाट पहुंचे थे। साथ में योगी आदित्यनाथ और भाजपा शासित अन्य 10 राज्यों के मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री और उनके स्वजन भी उपस्थित थे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा पत्नी डा. मल्लिका नड्डा गंगा आरती दर्शन में शामिल हुए।

पीएम नरेन्द्र मोदी ने मां गंगा की आरती निहार निहाल हो गए। जाह्नवी तट पर बह रही भक्ति रस की धारा के साथ पीएम मोदी के चेहरे का भाव भी बदलता रहा। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के नव्य व दिव्य स्वरूप लोकार्पण समारोह के उपलक्ष्य में मनाई जा रही शिव दीपावली से गंगा आरती की भव्यता देखते बन रही थी। किनारे घाटों पर जले दीप व झालर व फसाड की लाइटों ने उनका मन मोह लिया। इस दौरान पीएम मोदी समेत अन्य अतिथियों ने हाथ जोड़कर मां गंगा को प्रणाम किया।

मां गंगा के प्रति श्रद्धा देख घाट किनारे खड़े लोगों ने हर-हर महादेव का उद्घोष कर सभी का अभिनंदन किया तो पीएम नरेन्द्र मोदी ने भी हाथ हिलाकर अभिनंदन स्वीकार किया। शाम को रविदास घाट से पीएम मोदी जिस विवेकानंद नामक जलयान पर सवार हुए थे उसमें पहले से ही हरियाणा, असम, मध्य प्रदेश समेत 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों का दल परिवरीजनों से साथ सवार था। जलयान से पीएम मोदी दशाश्वमेध घाट पहुंचे। गंगा आरती स्थल पर रंग-बिरंगी सजावट की गई थी। दीपों का उत्सव मनाया जा रहा था जिसे देख वे अभिभूत दिखे।

पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ मणिकर्णिका घाट से असि घाट तक जल विहार किया। इस दौरान हर घाट पर लोगों की भारी भीड़ लगी रही। इस दौरान मेहता घाट पर जब जलयान रुका तो तट पर मौजूद सभी लोगों ने लेजर शो का आनंद लिया। गंगा किनारे पहुंचे विशिष्टजनों के साथ ही लाखों लोग इस अद्भुत आयोजन के साक्षी बने। गंगा आरती के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया- काशी की गंगा आरती हमेशा अंतर्मन को नई ऊर्जा से भर देती है। आज काशी का बड़ा सपना पूरा होने के बाद दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती में शामिल हुआ और मां गंगा को उनकी कृपा के लिए नमन किया। नमामि गंगे तव पाद पंकजम्।

ये मुख्यमंत्रियों ने किया गंगा आरती का दर्शनलाभ : गंगा आरती में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा 10 राज्यों से मुख्यमंत्री भी शामिल हुए। इसमें हरियाणा के मनोहर लाल खट्टर, असम के हेमंता विश्वा शर्मा, मध्य प्रदेश के शिवराज सिंह चौहान, अरुणाचल प्रदेश के प्रेमा खांडू, त्रिपुरा के विप्लव देव, उत्तराखंड के पुष्कर सिंह धामी, गुजरात के भूपेंद्र भाई पटेल, हिमाचल के जयराम ठाकुर, मणिपुर के एन विशेन सिंह, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई आदि मौजूद थे।

मठ-मंदिरों में पूजन, भाजपा मुख्यालय में दीपोत्सव : काशी विश्वनाथ धाम कारिडोर का लोकार्पण महोत्सव भाजपा ने प्रदेशभर में मनाया। सभी जिलों के मठ-मंदिरों, पार्टी कार्यालयों में स्क्रीन लगाकर समारोह का सीधा प्रसारण दिखाया गया। साधु-संतों को भी बुलाया गया। उन्हें विश्वनाथ धाम का साहित्य और प्रसाद वितरित किया गया। शिवालयों में रुद्राभिषेक कराया गया। वहीं, शाम को काशी में शिव दीपावली मनाई गई तो भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदेशभर में दीपोत्सव मनाया। पार्टी मुख्यालय सहित सभी पार्टी कार्यालयों, कार्यकर्ताओं व श्रद्धालुओं के घरों पर दीप प्रज्ज्वलित किए गए। अब तय किया गया है कि पार्टी आगामी दिनों में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से ‘दिव्य काशी-भव्य काशी’ का संदेश लेकर जाएगी। सभी जनप्रतिनिधि उन कार्यक्रमों में शामिल होंगे।