अफगानिस्तान को गेहूं की आपूर्ति के तौर-तरीकों पर पाकिस्तान के साथ हो रही बातचीत : विदेश मंत्रालय

विदेश मंत्रालय का कहना है कि भारत अफगानिस्तान को 50 हजार मीट्रिक टन गेहूं और जीवन रक्षक दवाओं की आपूर्ति के तौर-तरीकों पर पाकिस्तान के साथ बातचीत कर रहा है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने गुरुवार को कहा कि हम अफगानिस्तान को मानवीय सहायता के रूप में 50 हजार मीट्रिक टन गेहूं के साथ जीवन रक्षक दवाओं की आपूर्ति करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम गेहूं के शिपमेंट के परिवहन के मसले पर पाकिस्तानी अधिकारियों के साथ बातचीत कर रहे हैं।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि हमने अफगानिस्तान को मानवीय सहायता के रूप में 50 हजार मीट्रिक टन गेहूं के साथ जीवन रक्षक दवाइयों की आपूर्ति करने की प्रतिबद्धता की है। इस संबंध में हम पाकिस्तानी प्राधिकारियों के साथ गेहूं के शिपमेंट के सही तौर तरीकों पर बात कर रहे हैं। मालूम हो कि इस महीने की शुरुआत में भारत ने अफगानिस्तान को कोविड रोधी टीकों Covaxin की पांच लाख खुराक की आपूर्ति की थी।

बागची ने यह भी बताया कि श्रीलंका प्रशासन द्वारा 18-20 दिसंबर के बीच तमिलनाडु के 68 मछुआरों और 10 नौकाओं को हिरासत में लिए जाने के मामले के संबंध में भारत सरकार ने श्रीलंका सरकार से बात की है। इन मछुआरों को जरूरत की सभी सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। कोलंबो में भारतीय उच्चायोग ने इन भारतीय मछुआरों की शीघ्र रिहाई का मुद्दा उठाया जिसके चलते 12 मछुआरों को रिहा किया जा चुका है। भारतीय उच्चायोग बाकी मछुआरों की जल्द से जल्द रिहाई के लिए प्रयास कर रहा है।