राष्ट्रीय युवा संसद में 5000 छात्रों ने बनाया मॉडल यूनियन बजट, जानें क्या हैं युवाओं की बजट से उम्मीदें

ऐसे में जबकि यूनियन बजट 2022-23 लोक सभा में प्रस्तुत किए जाने में कुछ ही दिन रह गये हैं, देश के 100 से अधिक स्कूलों के 5000 से अधिक छात्र-छात्राओं ने मिलकर एक मॉडल यूनियन बजट तैयार किया है। देश के युवाओं में संवाद कायम करने हेतु बनाए गए राष्ट्रीय युवा संसद द्वारा 9 से 11 जनवरी 2022 तक वर्चुअल मोड में आयोजित बजट डायलॉग 2022 में स्कूली छात्रों की दृष्टि में मॉडल यूनियन बजट पर राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश की मौजूदगी में हुई दो-दिवसीय चर्चा के बाद तैयार किया गया है। इस बजट एक कॉपी युवाओं की बजट से उम्मीदों के तौर पर भारत सरकार में वित्त मंत्री को भी भेजी जाएगी।

राष्ट्रीय युवा संसद द्वारा जारी की गयी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, पिछले साल शुरू किए गए बजट डायलॉग के वर्ष 2022 में दूसरे संस्करण का थीम ‘मेकिंग इंडिया अ ग्लोबल इकनॉमिक पॉवरहाउस’ था। तीन दिवसीय कार्यक्रम के पहले दिन विभिन्न मंत्रालयों के लिए प्रस्ताव तैयार के लिए नियुक्त छात्र सांसदों द्वारा आर्थिक सर्वेक्षण प्रस्तुत किया गया और इसके बाद ‘हलवा समारोह’ आयोजित किया गया। वहीं, दूसरे व तीसरे दिन विभिन्न मंत्रालयों के लिए नियुक्त छात्र सांसदों के बीच हुए बजट डायलॉग 2022 के दौरान राष्ट्रीय युवा संसद संस्थापक कार्तिकेय गोयल ने कहा, “वर्ष 2022-23 का यूनियन बजट हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है। कोविड महामारी से उबरती वैश्विक-व्यवस्था में भारत ने वैक्सीन निर्माण में अग्रणी भूमिका निभाई है। ऐसे में यह सही समय है कि भारत अपने आपको चीन के विकल्प के तौर पर विश्व के समक्ष प्रस्तुत करे और ग्लोबल सप्लाई चेन में लिंचपिन बनकर उभरे।”

बजट डायलॉग 2022 के उद्घाटन भाषण में, प्राप्त जानकारी के अनुसार, उपसभापति हरिवंश ने कहा कि ब्रिटिश राज से पहले भारत का वैश्विक अर्थव्यवस्था से सबसे अधिक योगदान होने के कारण इसे ‘सोने की चिड़िया’ कहा जाता था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किये गये स्टार्ट-अप इंडिया अभियान की प्रशंसा करके हुए उपसभापति ने कहा, “ऐसे समय में जबकि हम आजादी के 75वें वर्ष में अमृत महोत्सव मना रहे हैं युवाओं को अपने संवैधानिक अधिकारी और दायित्वों को समझने की जरूरत है।” इसके साथ ही, उन्होंने राष्ट्रीय युवा संसद के संस्थापक व अध्यक्ष कार्तिकेय गोयल द्वारा बजट डॉयलॉग 2022 के आयोजन की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस तरह से प्लेटफॉर्म से युवाओं को राष्ट्र-निर्माण में हिस्सा लेने का मौका मिलता है।