ठंडा दूध, नींबू और हल्दी वाला पानी ऐसे घरेलू उपायों और नेचुरल चीज़ों से पाएं दर्दनाक छालों से छुटकारा

कब्ज, हार्मोनल असंतुलन, अनियमित पीरियड्स, शरीर में विटामिन-बी, जिंक, फॉलिए एसिड, आयरन की कमी, अधिक तली-भुनी, मसालेदार चीज़ों का सेवन, रोग-प्रतिरोधक क्षमता में कमी आदि मुंह के छालों के प्रमुख कारण हैं। यहां दिए जा रहे टिप्स इनसे छुटकारा दिलाएंगे।

1. एक ग्ल्सा पानी में आधा टीस्पून हल्दी उबाल लें। ठंडा होने पर इस पानी से कुल्ला करें। जल्द ही फायदा मिलेगा। छालों पर हल्दी का पेस्ट लगाने से भी राहत मिलती है।

2. शहद और इलायची का पाउडर मिलाकर पेस्ट बना लें। दिन में तीन-चार बार इसे छालों पर लगाएं। कुछ ही दिनों में आराम महसूस होगा।

3. एक ग्लास पानी में टमाटर का रस मिलाकर कुल्ला करने से मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं।

4. सूखा नारियल चबाकर लुगदी बना लें। इसे कुछ देर मुंह में रखें और फिर खा लें। रोजाना सुबह-दोपहर-शाम ऐसा करने से कुछ ही दिनों में छाले खत्म हो जाते हैं।

5. 10 ग्राम सौंफ, 25-25 ग्राम आंवला-मिश्री और दो हरी इलायची मिलाकर पाउडर बना लें। आधा टीस्पून यह पाउडर दिन में दो बार पानी के साथ लें। राहत मिलेगी।

6. नीम के पत्ते उबालकर पानी छान लें। इस पानी में तीन-चार बूंद लहसुन के रस की मिलाकर कुल्ला करें। कुछ ही दिनों में आराम महसूस होगा।

7. दो-तीन लहसुन की कलियां पीसकर पेस्ट बना लें। इसे छालों पर लगाएं और 15 मिनट बाद कुल्ला करें। जल्द ही मुंह के छाले ठीक हो जाएंगे।

8. अमरूद के पत्ते पर कत्थे का पेस्ट लगाकर चबाने से भी बहुत फायदा मिलता है।

9. ठंडे दूध में रूई भिगोकर छालों पर लगाने से राहत मिलती है।

10. दिन में तीन-चार बार तुलसी का पत्ता चबाकर खाने से मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं।

11. मुंह के छालों पर शहद लगाने से भी आराम महसूस होता है।

12. नींबू पानी में शहद मिलाकर कुल्ला करने से कुछ ही दिनों में मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं। जायफल का काढ़ा बनाकर तीन-चार बार कुल्ला करने से भी राहत मिलती है।

13. मुलेठी के पाउडर में शहद मिलाकर पेस्ट बना लें। यह पेस्ट छालों पर लगाएं और लार थूक दें। कुछ ही दिनों में आराम महसूस होने लगेगा।

14. ठंडी चीज़ें खाने या छालों पर बर्फ लगाने से भी फायदा पहुंचता है।

15. ग्लिसरीन में हल्दी मिलाकर लगाने से मुंह के छालों की समस्या दूर होती है।

(डॉ. कर्नल विजय दत्ता, सीनियर कंसल्टेंट, इंटरनल मेडिसिन, इंडियन स्पाइनल इंजरीज़ सेंटर, नई दिल्ली से बातचीत पर आधारित)