फरीदाबाद व गुरुग्राम सहित हरियाणा में स्कूलों को खोलने की तैयारी, कक्षाओं में बुलाए जाएंगे एक तिहाई बच्चे

Haryana School Open: हरियाणा सरकार कोरोना महामारी की तीसरी लहर के बावजूद राज्‍य में स्‍कूलों को खोलने की तैयारी कर रही है। दरअसल हरियाणा में तीसरी लहर में कोरोना अभी तक ज्यादा घातक साबित नहीं हुआ है। संक्रमण दर भी थोड़ी नीचे आई है। इससे उत्साहित प्रदेश सरकार स्कूलों को एक तिहाई क्षमता के साथ खोलने पर विचार कर रही है। हालांकि 26 जनवरी तक तमाम स्कूल बंद रहेंगे और उसके बाद ही हालात की समीक्षा कर स्कूल खोलने पर कोई अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

26 जनवरी तक बंद रहेंगे स्कूल, उसके बाद हालात की समीक्षा कर लिया जाएगा अंतिम फैसला

हरियाणाा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने बुधवार को बताया कि स्‍कूलों को खोलने को लेकर प्रदेश सरकार जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं लेगी। राज्‍य में कोरोना वायरस का संक्रमण कम होने पर स्कूली बच्चों को 33 प्रतिशत रोटेशन के साथ स्कूलों में बुलाया जा सकता है। इससे बच्‍चों की पढ़ाई – लिखाई सुचारू हो सकेगी। स्कूलों को  खोलने तक आनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि स्कूलों में टीकाकरण का कार्य भी जोरों पर चल रहा है। कोरोना से बचाव का सुरक्षा चक्र पहनने में किशोर पूरे उत्साह दिखा रहे हैं। प्रदेश में अभी तक 51 प्रतिशत बच्चे टीके लगवा चुके हैं।

टीकाकरण में उत्साह दिखा रहे छात्र-छात्राएं, 51 प्रतिशत बच्चों ने लगवाए कोरोना से बचाव के लिए टीके

प्राथमिक शिक्षकों (जेबीटी) के तबादलों से जुड़े सवाल पर गुर्जर ने कहा कि कोर्ट में स्टे होने के चलते ये तबादला रुके हुए हैं। हरियाणा सरकार प्राथमिक शिक्षकों के तबादलों के लिए पूरी तरह तैयार है। प्राथमिक शिक्षकों और मुख्य शिक्षकों को जिलों के अंदर ही स्थानांतरित करने के लिए आनलाइन ट्रांसफर का संशोधित शेड्यूल जारी कर दिया गया है।

महेंद्रगढ़ में तीन चौथाई बच्चों ने लगवाए टीके

जिला –                     टीकाकरण

  • अंबाला –                      50%
  • भिवानी –                      34%
  • चरखी दादरी –               65%
  • फरीदबाद –                  59%
  • फतेहाबाद –                   43%
  • गुरुग्राम –                       74%
  • हिसार –                         30%
  • झज्जर –                          60%
  • जींद –                            45%
  • कैथल –                           68%
  • करनाल –                         64%
  • कुरुक्षेत्र –                          66%
  • महेंद्रगढ़ –                        85%
  • नूंह –                                7%
  • पलवल –                          48%
  • पंचकूला –                        40%
  • पानीपत –                          52%
  • रेवाड़ी –                            76%
  • रोहतक –                           25%
  • सिरसा –                            49%
  • सोनीपत –                          56%
  • यमुनानगर –                         63%
  • कुल –                                  51%