अबूधाबी में हुए हमले में मिसाइलों और ड्रोन का हुआ इस्तेमाल, यूएई ने भारतीयों की मौत पर जताया शोक

यमन के हाउती विद्रोहियों ने अबूधाबी में सोमवार को किए हमले में क्रूज मिसाइल, बैलेस्टिक मिसाइल और ड्रोन का इस्तेमाल किया था। हमले में सरकारी तेल भंडार और अबूधाबी एयरपोर्ट को निशाना बनाया गया था। यह जानकारी अमेरिका में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के राजदूत यूसुफ अल-ओतैबा ने दी है। इस बीच यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जाएद अल नाह्यान ने दुबई 2020 एक्सपो में स्थित भारतीय पैवेलियन में आकर अबूधाबी में हुए हमले में दो भारतीयों की मौत पर शोक जताया। प्रेट्र को यह जानकारी यूएई में भारतीय राजदूत संजय सुधीर ने दी है। हाउती विद्रोहियों के हमले में कुल तीन लोग मारे गए थे।

यूएई के राजदूत ने बताया कि सोमवार के हमले में कई प्रमुख ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश की गई थी लेकिन डिफेंस सिस्टम के सक्रिय हो जाने से ज्यादातर हमले नाकाम हो गए थे। दुर्भाग्य से कुछ हमले नहीं रोके जा सके जिनके कारण तीन निर्दोष लोगों की मौत हो गई। ओतैबा ने यह बात अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा पर एक यहूदी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में अपने वर्चुअल संबोधन में कही। हाउती विद्रोहियों के हमले को लेकर यूएई की सरकार से जुड़े किसी व्यक्ति ने पहली बार इतनी विस्तृत जानकारी दी है। इस बीच यूएई ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से विशेष सत्र बुलाकर अबूधाबी में हाउती विद्रोहियों के हमले पर चर्चा कराने की मांग की है।