स्‍कूल, कालेज बंद होने के चलते हिसार के जिन रूटों पर रोडवेज बसें की थी बंद, अब दोबारा से चलेंगी

हिसार जिले में ग्रामीण के जिन रूटों पर स्कूलों के बंद होने के चलते रोडवेज बसें बंद की गई थी। उन बसों को रोडवेज विभाग दोबारा से चलाएगा। इसकी रोडवेज ने गांव में मुनयादी भी करवाई है, ताकि ग्रामीणों को पता चल सके और विद्यार्थियों को भी बस की समय पर सुविधा मिल सके। यह बसें स्कूल, कालेज बंद होने के कारण बंद कर दी गई थी, क्योंकि सवारी नहीं होती थी। सभी बसें खाली आती थी। ऐसे में रोडवेज को राजस्व घाटा हो रहा था।

मंगलवार को ही स्कूल, कालेज खुल गए। मगर पहले दिन बसों में अधिक भीड़ नजर नहीं आई। नाममात्र विद्यार्थी ही बसों में सफर करने आए। इसका कारण है कि 10 फरवरी से कालेज छात्रों की परीक्षाएं शुरू होनी है और उनकी आनलाइन क्लासें लग रही है। ऐसे में अधिकतर छात्र घर पर ही रहे। कालेज छात्रों की ही बसों में भीड़ होती है। सामान्य दिनों में रोजाना करीब 60 हजार विद्यार्थी बसों में सफर करते है। इसका खुलासा पास बनवाने वाले छात्रों से हुआ। इस बार कोरोना के डर से छात्रों ने बस पास बहुत कम बनवाएं। वरना सालाना 40 से 50 हजार छात्र बस पास बनवाते थे।

यह रूट हैं

रोडवेज ने इन रूटों की सूची बनाकर कर्मियों को अवगत करवा दिया है। किस समय पर किस बस को रूट पर लेकर जाएं। ग्रामीण के ठसका, जुगलान, भूना, पाबड़ा, बालसमंद-बुड़ाक, डोभी, किरतान, हरिता, तोशाम, चौधरीवाली, तेलनवाली, चौधरीवास आदि रूटों पर बसों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

दो दिन से बस अड्डा पर बढ़ी रौनक

पिछले दो दिन से बस अड्डा पर रौनक बढ़ी है और भीड़ नजर आने लगी है। पहले की तरह सवारियां दोबारा से बढ़ना शुरू हो गई है। इससे रोडवेज को भी फायदा होगा और राजस्व में बढ़ोतरी होगी। रोडवेज विभाग का कहना है कि कोरोना कम हुआ है तो सवारी बढ़ी है। स्कूल, कालेज खुलने से भी काफी असर पड़ा है। बुधवार से सभी रूटों पर बंद बसें चलाई जाएगी। जितनी बसें पहले चलती थी उन बसों की सुविधा दोबार से शुरू करेंगे।