Jagran Prakashan ने FY 22 की तीसरी तिमा‍ही में किया शानदार बिजनेस, डिजिटल कारोबार में भी मुनाफा बढ़ा

देश में सबसे अधिक पढ़े जाने वाले अखबार दैनिक जागरण के प्रकाशक जागरण प्रकाशन लिमिटेड (JPL) ने चालू वित्त वर्ष 2021-22 की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) के नतीजे जारी कर दिए हैं। इस दौरान कंपनी का कुल मुनाफा 167.94 करोड़ रहा। कंपनी ने इस अवधि में 110.32 करोड़ का शुद्ध मुनाफा अर्जित किया। प्रिंट, डिजिटल और आउटडोर कारोबार से FY 22 की तीसरी तिमाही में हुआ मुनाफा अबतक का सर्वाधिक है। इस दौरान जागरण प्रकाशन लिमिटेड ने 518.51 करोड़ रुपए का कारोबार किया।  जागरण प्रकाशन का कारोबार प्रिंट, डिजिटल, रेडियो और आउटडोर बिजनेस के क्षेत्र में है। बता दें कि 1 साल पहले इसी अवधि में कंपनी का कारोबार 402.60 करोड़ रुपये का था।

JPL को डिजिटल कारोबार से Q3 में 20.87 करोड़ रुपये का रेवेन्‍यू मिला। जबकि क्‍वार्टर 2 में यह 15.90 करोड़ रुपये रहा था। वहीं FY 21 के Q3 में यह 14.29 करोड़ रुपये रहा था। प्रॉफिट की बात करें तो यह FY 22 के Q3 में 5.80 करोड़ रुपये था, जबकि इससे एक साल पहले यह 3.77 करोड़ रुपये था। वहीं FY22 के Q2 में यह 1.71 करोड़ रुपये था। Q3 में मार्जिन बढ़कर 27.78 फीसद रहा है, जबकि एक साल पहले यह 26.38 फीसद था।

JPL की डिजिटल विंग को इंडस्‍ट्री स्‍टैंडर्ड और रेवेन्‍यू में अव्‍वल रहने पर कई अवार्ड भी मिले हैं। इनमें मोबेक्‍स अवार्ड, साउथ एशिया डि‍जिटल मी‍डिया अवार्ड, ट्रेंडसेटर सीआइओ 2021 अवार्ड, सीआइओ 100 अवार्ड, सीआइओ 1000 अवार्ड और आइडीसी इंडस्‍ट्री इनोवेशन अवार्ड 2021 शामिल हैं।

यही नहीं Jagran.com ने यूजर की संख्‍या, पेज व्‍यूज और टाइम स्‍पेंट कैटेगरी में भी अच्‍छी ग्रोथ की है। वेबसाइट की पहुंच 68 मिलियन यूनिक विजिटर तक है। उसके टोटल पेज व्‍यूज 244 मिलियन हैं। Unique Visitor की ग्रोथ 27 फीसद और पेज व्‍यूज 8 फीसद है।

एफएम रेडियो का कारोबार 40.66 करोड़ रुपये के मुकाबले 59.88 करोड़ रुपये रहा। आउटडोर एडवरटाइजिंग, इवेंट मैनेजमेंट और एक्टिवेशन सर्विसेज वाले दूसरे सेगमेंट से रेवेन्यू बढ़कर 33.84 करोड़ रुपये हो गया, जबकि पहले यह 20.06 करोड़ रुपये था। इस तिमाही में कुल खर्च 387.96 करोड़ रुपये रहा, जो पहले 313.63 करोड़ रुपये था। प्रिंटिंग, प्रकाशन और डिजिटल से राजस्व 425.89 करोड़ रुपये रहा, जो 1 साल पहले इसी अवधि में 342.89 करोड़ रुपये था।

इस मौके पर जागरण प्रकाशन लिमिटेड के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक महेंद्र मोहन गुप्त ने कहा कि तीसरी तिमाही में सभी क्षेत्रों में कंपनी का शानदार प्रदर्शन रहा। यह मजबूत हो रही भारतीय अर्थव्यवस्था, त्योहारी सीजन और सरकारी विज्ञापन में बढ़ोतरी की वजह से संभव हो पाया है।

उन्होंने कहा कि कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन की वजह से रिकवरी मामूली रूप से प्रभावित हुई है, लेकिन भाग्यवश यह डेल्टा वैरिएंट की तरह अर्थव्यवस्था और मानवीय जिंजदगी के लिए नुकसानदायक नहीं रहा। उन्होंने कंपनी की विकास की गति जारी रहने की उम्मीद जाहिर की, लेकिन यह भी कहा कि समाचारपत्र उद्योग को न्यूज प्रिंट की कीमत में होने वाली भारी बढ़ोतरी की चुनौती से भी निपटना होगा।