Maha Shivratri 2022: महादेव से सीखे जा सकते हैं जिंदगी के ये छोटे-बड़े सबक

भगवान शिव के कई रूप रंग है तभी तो उनकी पूजा- अराधना मूर्ति के साथ शिवलिंग के रूप में भी होती है। उनके व्यक्तित्व के ऐसे कई गुण हैं जिनसे हम जिंदगी के कई बड़े सबक सिख सकते हैं और प्रेरित हो सकते हैं। तो आज महाशिवरात्रि के अवसर पर हम उन्हीं के बारे में जानेंगे।

बुराई बर्दाश्त न करना

शिव बुराई का नाश करने वाले माने जाते हैं। वे न अन्याय सहते हैं और न किसी और को करने देते हैं। कई राक्षसों का उन्होंने संहार किया लेकिन निष्पक्ष तरीके से। तो आपको उनका ये गुण अपने व्यक्तित्व में शामिल करना चाहिए।

शांत रहना जीवन में आगे बढ़ने का मूल मंत्र

गंभीर और बुरी स्थितियों से निपटने का बहुत ही सरल तरीका है शांत रहना और धैर्य न खोना। भगवान शंकर ज्यादातर ध्यान की स्थिति में ही रहते हैं और इस स्थिति में बने रहकर ही वो कई समस्याओं को निपटारा कर लेते हैं। ब्रम्हांड की भलाई के लिए उन्होंने घंटों ध्यान लगाया था।

सुख या दुःख अधिक समय तक नहीं रहता

भगवान शिव भौतिक चीज़ों से दूर रहते हैं इसका अंदाजा आप उनकी वेश-भूषा से ही लगा सकते हैं। और अगर आपने ये चीज़ समझ ली, तो आप जीवन में आत्मसुख जरूर पा लेंगे और यही ज्यादा जरूरी है क्योंकि भौतिक सुख हो या दुख ज्यादा समय तक नहीं रहते।

खुद पर नियंत्रण रखें 

जब आप खुद पर नियंत्रण खो देते हैं, तो कई ऐसी चीज़ों का शिकार हो जाते हैं जो आपके लिए सही नहीं होता। इसलिए जरूरी है जानना कि आत्म विश्लेषण करते रहना और ये समझने की कोशिश करना कि वाकई जीवन जीने के लिए जरूरी क्या है।

नकारात्मकता को इनायत से दबाया जाए

शिव को नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि उन्होंने समुद्र मंथन के दौरान उत्पन्न हुआ ‘हलाहल’ नामक विष पी लिया था। ये करना केवल शिव के वश में ही था तो ये घटना हमें सबक देती है कि जीवन में नकारात्मक चीज़ों को भी सही तरीके से हैंडल किया जा सकता है।

घमंड न करे 

किसी भी चीज़ का घमंड आपको विनाश की ओर ले जाता है इसलिए इसे नियंत्रण में रखना जरूरी है। आपका अहंकार ही एकमात्र ऐसी चीज है जो आपको महानता प्राप्त करने से रोकती है। ऐसा कहा जाता है कि शिव ने अपने अहंकार को नियंत्रण में रखने के लिए अपना त्रिशूल धारण किया था। उन्होंने कभी भी अपने अहंकार को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। दूसरी ओर, न ही उन्होंने किसी और के अहंकार को सहन किया।