निवेश क्षेत्र घोषित होगा केएमपी एक्सप्रेस-वे से सटा दो किलोमीटर एरिया, विज ने दुबई में खींचा इन्वेस्टमेंट का खाका

हरियाणा में निवेश के लिए कई अंतरराष्ट्रीय निवेशकों ने रुचि दिखाई है। दुबई में आयोजित ग्लोबल इन्वेस्टर्स ग्रोथ समिट में हरियाणा के गृह और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने प्रदेश में औद्योगिक निवेश के लिए उपलब्ध सुविधाओं का ब्योरा देते हुए उद्योग जगत के लीडर्स और उद्यमियों को प्रदेश में इकाइयां स्थापित करने का न्योता दिया।

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के शाही परिवार के सदस्य शेख मजीद राशिद अल मौला द्वारा आयोजित समिट में विज ने कहा कि भारत के औद्योगिक पावर हाउस माने जाने वाले प्रदेश में 250 से अधिक फार्च्यून कंपनियों के कार्यालय हैं।

व्यापार करने की सुगमता (लीड्स सर्वेक्षण 2021) के मामले में हरियाणा को देश का दूसरा सबसे अच्छा राज्य और निर्यात तैयारियों (निर्यात तैयारी सूचकांक 2021) में पहले स्थान पर रखा गया है।

क्रेन, उत्खनन, कार, दोपहिया, जूते, वैज्ञानिक उपकरण और कई अन्य का अग्रणी निर्माता है। प्रदेश में पांच घरेलू हवाई अड्डे हिसार, भिवानी, करनाल, नारनौल और पिंजौर के साथ ही दो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों चंडीगढ़ और नई दिल्ली से निकटता है।

विज ने बताया कि प्रदेश में 37 अत्याधुनिक औद्योगिक माडल टाउनशिप (आइएमटी) और औद्योगिक एस्टेट (आइई) विकसित किए गए हैं। कुंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेसवे के दोनों किनारों पर दो किलोमीटर के हिस्से को निवेश क्षेत्र घोषित किया जाएगा।

राज्य ने निर्यातोन्मुखी इकाइयों और व्यापार संबंधी मुद्दों के समाधान के लिए 108 एकड़ भूमि पर एक निर्यात संवर्धन औद्योगिक पार्क (ईपीआइपी) की स्थापना की है। उद्यम और रोजगार नीति निवेश के लिए बेहतर आधार प्रदान करती है। शेख माजिद राशिद अल मौला की कंपनी ने चंडीगढ़ शहर में अपना नया कार्यालय स्थापित किया है, क्योंकि कंपनी में चंडीगढ़ के कई लोग काम करते हैं।