सीएम योगी आदित्यनाथ का एक्शन: प्रतापगढ़ में नायब नाजिर की हत्या का आरोपित एसडीएम ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह यादव निलंबित

प्रतापगढ़ में मामूली सी बात पर नायक नाजिर की पिटाई के बाद मौत के मामले में एसडीएम ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह यादव का मामला संज्ञान में आते ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई की है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रतापगढ़ की लालगंज तहसील के नायब नाजिर सुनील कुमार शर्मा की हत्या के आरोपित एसडीएम ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह यादव को निलंबित करने का निर्देश दिया, जिसके बाद शासन ने कार्रवाई की है।

नायब नाजिर सुनील कुमार शर्मा की हत्या के मामले में आरोपित ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह यादव फरार चल रहे हैं। आज ही उनके निलंबन की कार्रवाई की पुष्टि जिलाधिकारी प्रतापगढ़ ने की है। उधर फरार चल रहे एसडीएम की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमें लखनऊ व सुल्तानपुर भी गई हैं। प्रतापगढ़ के लालगंज के एसडीएम ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह यादव ने बीते बुधवार रात तीन अन्य लोगों के साथ नायब नाजिर सुनील कुमार शर्मा (55) की डंडे से पिटाई की थी। इलाज के दौरान शनिवार की रात जिला अस्पताल में सुनील की मौत हो गई थी। इसके बाद कर्मचारियों ने जमकर हंगामा किया था। इसके बाद आरोपित एसडीएम ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह यादव सहित चार लोगों के खिलाफ धारा 302 में रिपोर्ट दर्ज की गई थी। कर्मचारी नेताओं ने आरोपित एसडीएम की गिरफ्तारी, मृतक के परिवार को 50 लाख रुपये मुआवजा एवं बेटे को सरकारी नौकरी देने की मांग की है।

इस मामले में कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ ने घटना के विरोध में सोमवार को प्रदेश भर में कलेक्ट्रेट/ तहसीलों में तालाबंदी कर मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजने की भी घोषणा की है। इसकी तालाबंदी की घोषणा से पहले ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने आरोपित ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह यादव को निलंबित कर दिया है। लालगंज एसडीएम आवास पर शनिवार से ही ताला बंद है। नायब नाजिर की मौत के बाद से एसडीएम फरार हैं। ट्रामा सेंटर लालगंज में इलाज करा रहे नायब नाजिर को देखने एसडीएम लालगंज ज्ञानेंद्र विक्रम सिंह शुक्रवार की रात व शनिवार को तो गए, लेकिन दोपहर के बाद से उनका पता नहीं है।