Krishi UDAN scheme से जुड़े 53 एयरपोर्ट, जानिए क्‍या है यह योजना और किसानों को कैसे हो रहा फायदा

Covid Mahamari में अपनी फसल देश के कोने-कोने तक पहुंचाने के लिए मोदी सरकार ने किसानों की मदद के लिए बड़ी मुहिम चलाई है। इसके तहत पहले Kisan Special Trains का सहारा लिया गया। इसके जरिए पूरे देश में फल, सब्‍जी, दूध और दूसरे रोजमर्रा के सामान की सप्‍लाई की जा रही है। इसके बाद सरकार Udan Scheme (उड़े देश का आम आदमी) लाई, जिसके तहत एयरपोर्ट को आपस में जोड़ा गया। फिर इसके जरिए किसानों की उपज भेजने के लिए Krishi Udan Scheme शुरू हुई।

नागरिक उड्डयन राज्‍यमंत्री वीके सिंह ने बताया कि इस योजना से 53 एयरपोर्ट जुड़े हुए हैं। इस स्‍कीम को अगस्‍त 2020 में लॉन्‍च किया गया था। यह डोमेस्टिक के साथ International Route पर भी काम कर रही है। इसके जरिए किसान अपनी पैदावार को यहां से वहां भेज रहे हैं। इससे उन्‍हें अपनी उपज की अच्‍छी कीमत मिल रही है।

वीके सिंह ने संसद को बताया कि अक्‍टूबर 2021 में कृषि उडान 2.0 की घोषणा की गई थी। इसमें मुख्य रूप से पहाड़ी क्षेत्रों, उत्तर-पूर्वी राज्यों और आदिवासी क्षेत्रों की ऐसी पैदावार जो जल्‍द खराब हो सकती थी, उसे ट्रांसपोर्ट करने पर फोकस था।

मुख्य रूप से यह योजना उत्तर-पूर्वी क्षेत्र, पहाड़ी और जनजातीय क्षेत्र के 25 हवाई अड्डों मसलन अगरतला, अगत्ती, बारापानी, देहरादून, डिब्रूगढ़, दीमापुर, गग्गल, इंफाल, जम्मू, जोरहाट, कुल्लू (भुंतर), लेह, लेंगपुई, लीलाबारी, पाकयोंग, पंतनगर, पिथौरागढ़, पोर्ट ब्लेयर, रायपुर, रांची, रूपसी, शिमला, सिलचर, श्रीनगर और तेजू एयरपोर्ट से ऑपरेट हो रही थी।

वीके सिंह ने बताया कि इसके बाद इसमें 28 और हवाई अड्डे जोड़े गए। इनमें आदमपुर (जालंधर), आगरा, अमृतसर, बागडोगरा, बरेली, भुज, चंडीगढ़, कोयंबटूर, गोवा, गोरखपुर, हिंडन, इंदौर, जैसलमेर, जामनगर, जोधपुर, कानपुर (चकेरी), कोलकाता, नासिक, पठानकोट, पटना, प्रयागराज, पुणे, राजकोट, तेजपुर, त्रिची, त्रिवेंद्रम, वाराणसी और विशाखापत्तनम को शामिल हैं।

कृषि उड़ान योजना में आठ मिनिस्‍ट्री साथ काम कर रही हैं। इनमें नागरिक उड्डयन मंत्रालय, कृषि और किसान कल्याण विभाग, पशुपालन और डेयरी विभाग, मत्स्य विभाग, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय, वाणिज्य विभाग, जनजातीय मंत्रालय मामले, उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय (DoNER) कृषि-उत्पाद को यहां से वहां भेजने के लिए काम कर रहे हैं।

जो किसान Udan Scheme से अपनी फसल, सब्‍जी और दूसरे कृषि उत्‍पाद भेज रहे हैं। उन्‍हें इसे भेजने में कोई चार्ज नहीं देना है। मसलन लैंडिंग, पार्किंग, टर्मिनल नैविगेशन लैंडिंग चार्जेज (TNLC) और रूट नैविगेशन फैसिलिटी चार्जेज (RNFC) से किसानों को छूट है।

Airport Authority of India के हवाई अड्डों पर वित्तीय वर्ष 2021-22 (28 फरवरी 2022 तक) में कुल 1,08,479 मीट्रिक टन कार्गो (अंतर्राष्ट्रीय + घरेलू) को भेजा गया। कारोबारी साल 2020-21 में यह आंकड़ा 84,042 मीट्रिक टन था। (PIB इनपुट के साथ)