बचपन से ही शानदार एक्टर बनना चाहते थे केजीएफ 2 के ‘रॉकी भाई’, टीचर भी क्लास में कहते थे ‘हीरो’

साउथ सिनेमा के मशहूर अभिनेता यश इन दिनों अपनी बहुचर्चित फिल्म केजीएफ चैप्टर 2 को लेकर सुर्खियों में हैं। उनकी यह फिल्म साल 2018 में आई केजीएफ का दूसरा भाग है। फिल्म केजीएफ चैप्टर 2 को लेकर यश के फैंस और दर्शक काफी एक्साइटेड हैं। इस बीच अभिनेता यश ने खुद के एक कलाकार बनने के सफर पर खास खुलासा किया है।

यश इन दिनों फिल्म केजीएफ चैप्टर 2 का जोर-शोर से प्रमोशन कर रहे हैं। ऐसे में उन्होंने अंग्रेजी वेबसाइट इंडिया टुडे से बातचीत की। इस दौरान यश ने अपने फिल्मी करियर के साथ संघर्ष के दिनों को याद किया और खास खुलासे भी किए हैं। यश ने बताया है कि उन्हें बचपन से लोगों का ध्यान अपनी खींचने की आदत है। ऐसे में स्कूल में टीचर से लेकर सभी दोस्त उन्हें हीरो बुलाते थे।

अपने बचपन और संघर्ष के दिनों को याद करते हुए यश ने कहा, ‘मेरे पास एक्टिंग के अलावा कोई दूसरा करियर प्लान नहीं था। मैं हमेशा से एक शानदार एक्टर बनना चाहता था। यह एक्टिंग के बारे में भी नहीं है। मुझे कभी एहसास नहीं हुआ कि यह कितना मुश्किल है। बहुत कम उम्र में मेरे टीचर मुझे क्या हीरो कहकर बुलाने लगे थे। जब बात करते थे तब भी हीरो-हीरो बुलाते थे।’

यश ने आगे कहा, ‘वह ऐसा इसलिए करते थे क्योंकि मैं थोड़ी-बहुत एक्टिंग कर लेता था। और वह मुझे यह कहकर चिढ़ाते थे कि किधर है फिल्म, आई नहीं। क्लास में जब टीचर सबसे पूछते थे कि आप बड़े होकर क्या बनना चाहते हैं, तो मैं कहता था कि मैं एक सुपरस्टार बनूंगा। बहुत से स्टूडेंट्स ने कहा कि वह अंतरिक्ष यात्री और बाकि सब बनना चाहते हैं और मैं ‘हीरो’ बनने के लिए कहता था। तो सब हंस पड़ते थे।’

अपनी बात को खत्म करते हुए यश ने कहा, ‘लेकिन, मुझे विश्वास था कि मैं हीरो बन जाएगा। मुझे नहीं पता था कि यह कितना मुश्किल था या इसमें कितना समर्पण था। मुझे कोई जानकारी नहीं थी। मैं सिर्फ एक कलाकार बनना चाहता था। मैं अभी भी अपने बचपन के ज्यादातर दोस्तों के साथ हूं। वे मेरे करीबी सर्कल का हिस्सा हैं। हम एक बड़े परिवार की तरह हैं।’ आपको बता दें कि केजीएफ चैप्टर 2 इस महीने 14 तारीफ को रिलीज होगी।